Gk/GS अंतर्राष्ट्रीय संगठन

प्रमुख संगठन Organisations और उनके मुख्यालय  Headquarters

दूसरों के साथ शेयर कीजिये

प्रमुख संगठन Organisations और उनके मुख्यालय  Headquarters

Hello friends आज आप सभी को हम प्रतियोगी परीक्षाओं में हमेसा पूछे जाने वाले प्रश्न आप सभी के लिए शेयर कर रहे हैं| दोस्तोंप्रमुख संगठन Organisations और उनके मुख्यालय  Headquarters परीक्षाओं में अक्सर प्रश्न पूछे जाते हैं| आज हम इन्हीं से सम्बंधित कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण प्रश्न आप सभी के लिए शेयर कर रहे हैं इस Post में जितने भी प्रश्न है ये सभी पिछले विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछा जा चुका है|  जो छात्र Competitive exams की तैयारी कर रहे हैं उन सभी के लिए हमारा यह पोस्ट बहुत ही Helpful होगा |http://currentshub.com

अरब लीग

* स्थापना 22 मार्च 1945 को काहिरा( मिस्र )में हुई |
*मुख्य उद्देश्य – सदस्य राष्ट्रों का परस्पर सहयोग एवं हित संवर्धन |
*वर्तमान सदस्य संख्या- 22
*वर्तमान सदस्य -अल्जीरिया, बहरीन, कैमरून, जिबूती, मिस्र, इराक, जॉर्डन ,कुवैत ,लेबनान ,लीबिया, मॉरिटानिया, मोरक्को, ओमान, कतर, सऊदी अरब, सोमालिया, सूडान, सीरिया, ट्यूनीशिया, संयुक्त अरब अमीरात( यू ए ई), यमन गणराज्य एवं फिलिस्तीनी मुक्ति संगठन |

*मुख्यालय – काहिरा (मिस्र), लेकिन अब ट्यूनिस में |


दक्षेस

*पूरा नाम – दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय संगठन सहयोग संघठन | *स्थापना- 8 दिसंबर 1985 को हुई (ढाका)
* सदस्य- कुल 8- भारत, बांग्लादेश ,श्रीलंका ,नेपाल, भूटान ,मालदीव ,पाकिस्तान और अफगानिस्तान
*सचिवालय- काठमांडू (नेपाल )

*उद्देश्य
1-दक्षिण एशिया क्षेत्र की जनता के कल्याण एवं उनके जीवन स्तर में सुधार
२-दक्षिण एशिया के देशों की सामूहिक आत्मनिर्भरता में वृद्धि
३-क्षेत्र का आर्थिक, सामाजिक तथा सांकृतिक विकास
४-आपसी विश्वास, सूझबूझ तथा एक दूसरे की समस्याओं का मूल्यांकन
५-आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक ,तकनीकी एवं वैज्ञानिक क्षेत्र में सक्रिय सहयोग एवं पारस्परिक सहायता|
६- विकासशील देशों के सहयोग में वृद्धि
7-अंतरराष्ट्रीय मंचों पर आपसी सहयोग मजबूत करना |


ओपेक(OPEC)

* पूरा नाम- ऑर्गनाइजेशन ऑफ पेट्रोलियम एक्सपोर्टिंग कंट्रीज | *स्थापना- 1960 में बगदाद (इराक) में हुई |
*सदस्य – कुल 13- अल्जीरिया, इक्वेडोर, गैबन, इंडोनेशिया, इरान , इराक, कुवैत, लीबिया, नाइजीरिया, क़तर, सऊदी अरब ,यूएई (संयुक्त अरब अमीरात) तथा वेनेजुएला |
*उद्देश्य- पेट्रोलियम निर्यात करने वाले देशों के हितों का संरक्षण करना | तेल की कीमतों को स्थिरता प्रदान करना तथा समय समय पर सदस्य देशों के हित संवर्धन हेतु नीति निर्धारण करना | *मुख्यालय -वियना (ऑस्ट्रिया)

अन्यअन्तर्राष्ट्रीय संगठन

 

राष्ट्रमंडल(COMMONWEALTH)

* स्थापना- 1926 ईस्वी
*सदस्य – कुल 53 सदस्य, जिनमें ब्रिटेन एवं उसके उपनिवेश शामिल हैं (जो अब स्वतंत्र राष्ट्र है)| संगठन का अंतिम सदस्य दक्षिण अफ्रीका है |

*उद्देश्य – सदस्य राष्ट्रों की आर्थिक, तकनीकी शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक विकास के लिए प्रयास करना |
*मुख्यालय- मार्लबरो हाउस, लंदन (इंग्लैंड)
* ध्यातव्य – इस संगठन के सदस्य राष्ट्रों में परस्पर प्रतिनियुक्त राजनयिक प्रतिनिधि ‘उच्चायुक्त’ (हाई कमिश्नर) कहलाते हैं, ना की राजदूत (अंबेसडर) |
*CHOGM:राष्ट्रमंडल देशों के शासनाध्यक्षों का सम्मेलन(CHGOM) प्रत्येक दूसरे वर्ष आयोजित होता है |


गुटनिरपेक्ष आंदोलन(NAM)

* पूरा नाम – नॉन एलाइनमेंट मूवमेंट (गुटनिरपेक्ष आंदोलन या निर्गुट आंदोलन)
* स्थापना- 1961 में बेलग्रेड (पूर्व यूगोस्लाविया) में हुई |
*इस संगठन की स्थापना के प्रमुख प्रेरणा स्रोत इसके तीन संस्थापक सदस्यों- युगोस्लाविया, मिस्र और भारत के तत्कालीन राजनेता क्रमशः मार्शल टीटो ,कर्नल गमाएल नासिर और पंडित जवाहरलाल नेहरु थे |

* सदस्य -कुल संख्या कुल सदस्य 120 है |
*गुटनिरपेक्षता से तात्पर्य है – गुटबंदी से दूर रहना |
*इस आंदोलन के प्रमुख लक्ष्य
1-स्वतंत्र विदेशी नीति ,
२- उपनिवेशवाद का विरोध,
३- सैनिक गुट का सदस्य ना होना,
४- महाशक्ति के साथ सैनिक गठबंधन ना होना तथा

५- किसी महाशक्ति को अपने क्षेत्र में सैनिक अड्डा बनाने की इजाजत न देना |

संक्षेप में आज वे देश गुटनिरपेक्ष माने जाते हैं जो स्वतंत्र विदेश नीति का पालन करते हो|


रेडक्रॉस(RED CROSS)

* यह घायलों और युद्ध की देखभाल के लिए अंतर्राष्ट्रीय एजेंसी है | *इसकी नीव हेनरी डूनांट के द्वारा 1863 में डाली गई थी |
*यह शांति के समय में भी प्राकृतिक प्रकोपों के शिकार हुए लोगों के कष्ट दूर करने के लिए कार्य करती है |
*मुख्यालय- जेनेवा (स्विजरलैंड)
* 1917, 1944 और 1963 में शांति का नोबेल पुरस्कार |


अन्य संगठन

आसियान(ASEAN)

*यह एसोसिएशन ऑफ साउथ-ईस्ट एशियन नेशंस का संक्षिप्त रूप है |
*इसके सदस्यों में निम्नलिखित देश शामिल है -थाईलैंड, मलेशिया, इंडोनेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, वियतनाम ,ब्रूनेई, लाओस , म्यांमार एवं कंबोडिया |
*इसकी स्थापना 1967ईस्वी में की गई थी इसका सचिवालय जकार्ता (इंडोनेशिया) में है |
*सदस्यों की संख्या- 10


एमनेस्टी इंटरनेशनल(Amnesty Inter-national)

* यह मानव अधिकारों के संबंध एक विश्वव्यापी संगठन है जिसका मुख्यालय लंदन (ब्रिटेन) में है |
*इस संगठन की शुरुआत एक ब्रिटिश वकीलों द्वारा 28 मई 1961 को की गई |
*वर्तमान में दुनिया के 150 देशों में इसकी 5 लाख से अधिक सदस्य हैं |

*सन 1977 में नोबेल शांति पुरस्कार भी प्राप्त हुआ थाhttp://currentshub.com


एपेक(APEC) ‘एशिया प्रशांत आर्थिक सहयोग संगठन’

* स्थापना 1989,

* मुख्यालय -सिंगापुर
*सदस्य संख्या – 21
*उद्देश्य -एशिया-प्रशांत क्षेत्र में मुक्त एवं अबाध्य व्यापार का विकास करना, उदारीकरण तथा विनियोजन सुविधाओं को प्रोत्साहित करना, सदस्यों के मध्य आर्थिक एवं तकनीकी सहयोग बढ़ाना


जी-8(ग्रुप-8)

* स्थापना 1975 को न्यूयॉर्क(USA) में की गई |
*सदस्य : कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, ब्रिटेन, संयुक्त राज्य अमेरिका तथा रूस|

*जी-8 ऐसे राष्ट्रों का समूह है जिस का गठन बाजार अर्थव्यवस्था वाले अमीर औद्योगिक देशों के सदस्यों से सदस्यता से हुआ है |
*ये राष्ट्र नियमित रूप से शिखर सम्मेलनों के माध्यम से मिलते हैं और आर्थिक नीतियों एवं अंय मुद्दों पर सामंजस्य दृष्टिकोण अपनाते हैं |
*जी-8 ने ‘समूह -5’ दायित्वों एवं कार्यों के भार को अपने ऊपर ले लिया है |
*रूस को जी-8 से अभी निलंबित रखा गया है |


डी-8 (डेवलपिंग-8)

* स्थापना: जून 1997 में इस्तांबुल में ‘ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कॉन्फ्रेंस'(OIC) के 8 बड़े जनसंख्या वाले देशों ने किया था | इसमें शामिल देशों में तुर्की, ईरान इंडोनेशिया, मलेशिया, नाइजीरिया, मिस्र, पाकिस्तान एवं बांग्लादेश शामिल है | जिनकी कुल जनसंख्या लगभग 80 करोड़ तथा विश्व व्यापार में संयुक्त भागीदारी लगभग 4% है |
*सदस्य संख्या- 8


अन्य मुख्य अन्तर्राष्ट्रीय संगठन

 

आर्थिक सहयोग और विकास संगठन(OECD)

* स्थापना: 1961 ईस्वी
*मुख्यालय- पेरिस (फ़्रांस)
* सदस्य: 34-आस्ट्रिया, बेल्जियम, कनाडा,डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी ग्रीस ,आइसलैंड, आइरिस गणराज, इटली, लक्जमबर्ग, नीदरलैंड, नार्वे, पुर्तगाल, स्पेन, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, तुर्की, ब्रिटेन तथा संयुक्त राज्य अमेरिका, आस्ट्रेलिया, चेक गणराज्य, फिनलैंड, हंगरी जापान, कोरिया (गणराज्य), मैक्सिको , न्यूजीलैंड’ ,नर्वे पोलैंड आदि|
*मुख्यालय- 2,रूई आंद्रे पास्कन, 75775 पेरिस (फ़्रांस)
* उद्देश्य – सदस्य देशों के बीच आर्थिक सामाजिक कल्याण नीतियों का समन्वयन करना और सदस्य देशों को विकासशील देशों के कल्याण के लिए विस्तृत कार्य योजना बनाने हेतु प्रेरित करना |


इंटरपोल(interpol)

* यह ‘इंटरनेशनल क्रिमिनल पुलिस ऑर्गनाइजेशन’ का शब्द संक्षेप है |
*इसकी स्थापना 1923 ईस्वी में हुई |
*इससे विश्व के लगभग 190 देश संबंधित हैं |
*इसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय अपराधों के विरुद्ध कार्य करना है | *इसका मुख्यालय ल्योन (फ्रांस) में है |


जी-15(G-15)

*यह विस्वा के 17 विकासशील देशों का संगठन है |
*इसकी स्थापना बेलग्रेड (पूर्व युगोस्लाविया) में 1 सितम्बर 1989 को हुई |

*इसका प्रथम शिखर सम्मेलन 2 जून 1990 को कुआलालंपुर में हुआ|
* ‘ग्रुप ऑफ़ 15 अथवा ‘जी-15’ नामक संगठन के सदस्य राष्ट्र हैं- ब्राजील, मिस्र , जमैका , मलेशिया ,अल्जीरिया ,अर्जेंटीना, इंडोनेशिया नाइजीरिया,सेनेगल , वेनेज़ुएला, जिंबांबे ,भारत, चिली ,ईरान, | *केन्या 1998 में इसका सदस्य बना तथा श्रीलंका का नवीनतम सदस्य है|

अन्य IMPORTANT संगठन

 

जी-77(G-77)

*यह 134 देशों का समूह है |
*इसे जी-77 भी कहा जा इस के गठन के समय संस्थापक सदस्यों की संख्या 77 थी |
* इसकी स्थापना वर्ष 1964 में हुई |

*मुख्यालय – जेनेवा


नाटो (NATO)

*पूरा नाम – नॉर्थ एटलांटिक ट्रिटी ऑर्गनाइजेशन (उत्तर अटलांटिक संधि संगठन)
* स्थापना – 4 अप्रैल 1949 में वाशिंगटन (अमेरिका) में हुई |

*सदस्य- बेल्जियम, फ्रांस, लक्जमबर्ग, ब्रिटेन, नीदरलैंड, कनाडा, डेनमार्क, आइसलैंड, इटली, नार्वे, पुर्तगाल, संयुक्त राज्य अमेरिका, स्पेन, पोलैंड, हंगरी, चेक गणराज्य, यूनान, तुर्की एवं जर्मनी |
*सदस्यों की संख्या -28
*उद्देश्य-सदस्य देशों के पारस्परिक सामरिक सहयोग से सोवियत विस्तारवाद को रोकना था | किंतु सोवियत संघ के विघटन के बाद इसको ( नाटो का ) मुख्य उद्देश का स्वरूप ‘पार्टनरशिप फॉर पीस’ हो गया है | इसके अंतर्गत पूर्वी यूरोप के देशों को भी नाटो की छत्रछाया में लाना है | इस संबंध में मई 27, 1997 को रूस ने एक संधि पर हस्ताक्षर भी किए हैं |

*मुख्यालय – ब्रूसेल्स (बेल्जियम)

 

ब्रिक्स(BRICS)

* ब्राजील, रूस, भारत एवं चीन की एक नई आर्थिक संगठन (ब्रिक्स) की स्थापना वर्ष 2009 में की गई |
*इसका प्रथम शिखर सम्मेलन 16 जून 2009 येकेटरिनबर्ग(रूस) में हुआ |
*15 अप्रैल 2010 में ब्राजीलिया में हुए इसके दूसरे सम्मेलन में दक्षिण अफ्रीका को इसके सदस्यता प्रदान करने की सहमति बनी |
*दक्षिण अफ्रीका में शामिल होने के बाद इसका नाम ब्रिक्स (BRICS-brazil,russia,india,china,and south africa) हो गया | *शुरूआती 6 वर्षों तक इसकी अध्यक्षता भारत के पास रहेगी | *तदुपरांत क्रमशः ब्राजील एवं रूस 5-5 वर्ष के लिए अध्यक्ष होंगे |


*इसकी स्थापना 1971 ई में की गई |
*इसका मुख्यालय जेद्दाह (सऊदी अरब) में है |
*इसका उद्देश्य इस्लामी एकता राष्ट्रीय विकास के अन्य क्षेत्रों में सहयोग और विश्व शांति में योगदान देना था|

You May Also Like This-

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं आप इसे Facebook WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

  • Disclaimer:currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,
  • तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है,
  • न ही बनाया न ही स्कैन किया है |
  • हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है|
  • यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- currentshub@gmail.com

 

loading...

About the author

Shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment