Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Gk/GS इतिहास

फ्रांस की राज्यक्रांति(THE FRENCH REVOLUTION) : एक दृष्टी में

दूसरों के साथ शेयर कीजिये

 फ्रांस की राज्यक्रांति(THE FRENCH REVOLUTION) : एक दृटि में

फ्रांस की राज्यक्रांति

Hello दोस्तों आज मै आप लोगो को के साथ एक बहुत ही महत्वपूर्ण Topic “फ्रांस की राज्यक्रांति(THE FRENCH REVOLUTION)” शेयर कर रहा हूँ | यह topic परीक्षा की दृष्टी से बहुत ही महत्वपूर्ण है | प्रत्येक परीक्षा में इससे  प्रश्न अवश्य ही पुछा जाता है| यह लेख कुशल शिक्षको के मार्गदर्शन में तैयार किया गया है | इस टॉपिक से आगामी परीक्षा में प्रश्न अवश्य आने की सम्भावना  है |http://currentshub.com

फ्रांस की राज्यक्रांति(THE FRENCH REVOLUTION)

  • 14 जुलाई 1789 बास्तील के किले पर उत्तेजित फ्रांसीसियों द्वारा किए गए आक्रमण के साथ ही फ्रांसीसी राज्य क्रांति आरंभ हो गई |
    उस समय लुई सोलहवां फ्रांस का राजा था
    टुलेरिज राजमहल- जहां राजा रहता था
  • क्रांति का स्वरूप

    : फ्रांसीसी kranti स्वेच्छाचारिता या एकतंत्र और कुलीनतंत्र के विरुद्ध फ्रांसीसी जनता का विद्रोह था |

  • जिस प्रकार धर्म सुधार आंदोलन रोमन कैथोलिक चर्च के अत्याचार के विरुद्ध विद्रोह था |
  • उसी प्रकार फ्रांस की राज्यक्रांति सक्षम तथा कुलीनतंत्र के विरुद्ध विद्रोह था|

    क्रांति के कारण

  • लुई सोलहवां सदाचारी एवं अच्छी प्रकृति कथा कहां होने के बावजूद भी अपने सामंतों और अपनी रानी मेरी आंत्वानेत के बस में था |
  • उसने अपने योग्य मंत्री टर्गोट (तुर्गों) को 1776 ईस्वी में बर्खास्त कर दिया क्योंकि उसने प्रशासन में सुधार करने तथा सामंतों की शक्ति पर प्रतिबंध लगाने का यत्न किया था |
  • इस प्रकार लुई 15th एवं 16th अक्षम और व्यर्थ सिद्ध हुए तथा वे अपने भ्रष्ट मंत्रियों एवं चापलूस और स्वार्थी सामंतों के बस में थे |
  • 18 वीं सदी में फ्रांस में लोगों की कोई प्रतिनिधि सभा नहीं थी |
  • प्रांत का शिक्षित वर्ग इस दोष को अनुभव करता था और अपने देश की इस राजनीतिक ढांचे से असंतुष्ट था|
  • फ्रांस में अधिकांश भूमि के मालिक सामंत एवं ऊचे पादरी थे जो संख्या में थोड़े होने पर भी विशेष सामाजिक एवं राजनीतिक अधिकारों का उपयोग करते थे |
  • चर्च एक निकम्मा परंतु धनी संस्थान बन गया था |
  • फ्रांस के समूचे भू भाग का पांचवा भाग चर्च की संपत्ति था और शेष भाग की उपज का दसवां भाग भी चर्च का ही होता था|
  • फ्रांसीसियों ने अमेरिकी स्वतंत्रय युद्ध में भी भाग लिया क्योंकि इंग्लैंड से उसकी पुरानी शत्रुता थी |
  • प्रांत के सामंत वर्ग स्थिति एवं व्यवस्था में किसी भी प्रकार का परिवर्तन नहीं चाहते थे क्योंकि वह सुविधाभोगी वर्ग थे |

    क्रांति के परिणाम

  • सामंतवाद को समाप्त कर दिया गया| यूरोप में यह व्यवस्था हजार वर्षों से चली आ रही थी |
  • इसमें कुलीनों के विशेषाधिकार समाप्त हो गए और कर की सामान व्यवस्था स्थापित हुई |
  • क्रांति के दिनों में फ्रांस का रोमन कैथोलिक चर्च निष्क्रिय कर दिया गया|
  • उसकी जगह पर राजू द्वारा संपोषित समर्पित धर्मनिरपेक्ष सामाजिक एजेंसियों की स्थापना हुई थी|
  • नेपोलियन सत्ता में आया तो नेपोलियन के कानून चलाए गए थे|
  • इन कानूनों की बहुत सी बातें लंबे समय तक चलन में बनी रही|
  • उनमें से कुछ तो आज भी बरकरार है|
  • फ्रांस की क्रांति में राष्ट्र शब्द का आधुनिक अर्थ स्पष्ट किया|
  • राष्ट्र केवल उस प्रदेश को नहीं कहते जहां वहां के लोग रहते हैं बल्कि स्वयं उन लोगों को ही कहते हैं|
  • फ्रांस के लोग

  • अब फ्रांस केवल वह देश-प्रदेश नहीं रहा जिसे लोग फ्रांस के नाम से जानते थे बल्कि फ्रांस का अर्थ ‘फ्रांस के लोग‘ समझा जाने लगा|
  • संप्रभुता संपन्न होने के विचार के कारण ही फ्रांस की सैनिक शक्ति प्रबल हो सकी|
  • और संपूर्ण राष्ट्र सेना के साथ संगठित हो गया जिसके सैनिक क्रांतिदर्शी नागरिक थे |
  • जैकोबिन संविधान के अंतर्गत समस्त लोगों को मताधिकार और विद्रोह करने का अधिकार दिया गया|
  • नेपोलियन की हार के बाद फ्रांस का पुराना शासक राजघराना फिर राजगद्दी पा गया|
  • यद्यपि कुछ ही वर्षों बाद 1830 ईस्वी में फिर एक क्रांति हुई|
  • 1848 ईस्वी में राजतंत्र को फिर उखाड़ फेंका गया हालांकि वह जल्दी ही फिर शक्ति संपन्न हो गया|
  • अंत में 1871 ईसवी में गणतंत्र की पुनः स्थापना हुई |
  • मतदान एक प्रतिनिधि चुनने के अधिकारों से जनसाधारण की सभी समस्याओं का हल नहीं निकला|
  • किसानों को भूमि मिल गई किंतु मजदूरों और कारीगरों की क्रांति के मुख्य संचालक वही थे |
  • शीघ्र ही फ्रांस उन देशों में से एक हो गया | जिसमें जिनमें सामाजिक समानता एवं समाजवाद के विचारों ने पहली बार एक नए किस्म की राजनीतिक आंदोलन को उठाया|

loading...

About the author

Shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment