Gk/GS

भारत का संवैधानिक विकास ,एक्ट और अधिनियम: एक दृष्टी में

दूसरों के साथ शेयर कीजिये

भारत का संवैधानिक विकास ,एक्ट और अधिनियम: एक दृष्टी में

Hello friends आज मैं  आप लोगो के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक ” भारत का संवैधानिक विकास ,एक्ट और अधिनियम” लेकर आया हु| इससे  प्रत्येक परीक्षा मे कोई न कोई प्रश्न अवश्य ही पूछा जाता हैं | जो Students SSC,BANK,RAILWAY इत्यादि की तैयारी करते है उनके लिए ये टॉपिक बहुत ही Helpful है | वे इसे अवश्य ही पढ़े |

1773 का रेग्युलेटिंग एक्ट

  • इस एक्ट का उद्देश्य भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी की गतिविधियों को ब्रिटिश सरकार की निगरानी में लाना था|
  • कोर्ट ऑफ डायरेक्टर का कार्यकाल 1 वर्ष के स्थान पर 4 वर्ष का हो गया|
  • कोलकाता में एक सुप्रीम कोर्ट की स्थापना की गई इम्पे को मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया|

पिट्स इंडिया एक्ट (1784)

  • गवर्नर जनरल की कामसूत्र के सदस्यों की संख्या 3 कर दी गई|
  • मद्रास, मुंबई की सरकारे , बंगाल के अधीन |
  • 6 कमिश्ननरो के एक बोर्ड का गठन हुआ|

1786 का एक्ट

  • पिट द्वारा पेश इस अधिनियम में गवर्नर जनरल को विशेष व्यवस्था में अपनी परिषद के निर्णय को रद्द करने तथा अपने निर्णय लागू करने का अधिकार दिया गया |

1793 का चार्टर एक्ट

  • कंपनी का भारत में व्यापार करने का अधिकार 20 वर्ष के लिए बढ़ा दिया गया |
  • अपनी परिषदों के निर्णय को रद्द करने का अधिकार सभी गवर्नर जनरल को दे दिया गया |

1813 का चार्टर एक्ट

  • कंपनी का भारतीय व्यापार पर एकाधिकार समाप्त कर दिया गया, परंतु चीन के साथ व्यापार व चाय के व्यापार का एकाधिकार कंपनी के पास सुरक्षित |

1833 का चार्टर एक्ट

  • इसमें चीन के साथ व्यापारिक एकाधिकार समाप्त कर दिया गया|
  • प्रशासन का केंद्रीकरण कर दिया गया तथा बंगाल के गवर्नर जनरल को ‘भारत का गवर्नर जनरल’ बना दिया गया|

1853 का चार्टर एक्ट

  • इसमें यह व्यवस्था की गई कि नियंत्रण बोर्ड, सचिव तथा अन्य अधिकारियों का वेतन सरकार निश्चित करेगी, परंतु वेतन कंपनी उपलब्ध कराएगी|
  • इस अधिनियम को सबसे बड़ी कमी यह थी कि भारतीयों को अपने विषय में कानून बनाने की अनुमति नहीं दी गई थी|

1858 का अधिनियम

  • द्वैध शासन व्यवस्था, इस के लागू होने से समाप्त हो गई तथा देसी राजाओं का क्राउन से प्रत्यक्ष संबंध स्थापित हो गया|
  • भारत का गवर्नर जनरल ‘भारत का वायसराय’ कहा जाने लगा|

1861 का भारतीय परिषद अधिनियम

  • यह पहला ऐसा अधिनियम था जिसमें विभागीय प्रणाली एवं मंत्रिमंडलीय प्रणाली की नींव रखी गई|
  • इस अधिनियम द्वारा विधान परिषद के अधिकार अत्यंत सीमित हो गए| विधान परिषद का कार्य केवल कानून बनाना था|
  • गवर्नर जनरल को संकटकालीन अवस्था में विधान परिषद की अनुमति के बिना ही अध्यादेश जारी करने की आजादी थी|

1892 का भारतीय परिषद अधिनियम

  • इस अधिनियम द्वारा जहां एक और संसदीय प्रणाली का रास्ता खुला और भारतीयों को काउंसिलों में अधिक स्थान मिला|
  • वहीं दूसरी ओर चुनाव पद्धति व गैर सदस्यों की संख्या में वृद्धि ने असंतोष उत्पन्न कर दिया|
  • इसके तहत वार्षिक बजट पर वाद-विवाद व इससे संबंधित प्रश्न पूछे जा सकते थे|
  • परंतु मत विभाजन का अधिकार नहीं दिया गया था|

1992 का भारतीय परिषद अधिनियम

  • इस अधिनियम को “मार्ले-मिंटो सुधार” के नाम से जाना जाता है|
  • विधान परिषद के अधिकारों में वृद्धि, इससे सार्वजनिक हितों से संबंधित प्रस्तावों पर बहस करने तथा पूरक प्रश्न पूछने का अधिकार मिल गया व मुसलमानों के लिए पृथक निर्वाचन की व्यवस्था|

1919 मांटेस्क्यू चेम्सफोर्ड सुधार

  • सांप्रदायिक निर्वाचन का दायरा बढ़ा कर व्यक्तिगत हित तक सीमित कर दिया गया|
  • प्रांतों में द्वैध शासन लागू किया |
  • प्रांतीय विषयों को दो भागों में विभाजित किया गया-
    1- आरक्षित
    २- हस्तांतरित

भारत सरकार अधिनियम 1935

  • केंद्र में द्वैध शासन की व्यवस्था की गई|
  • इस अधिनियम में एक अखिल भारतीय संघ की व्यवस्था की गई|
  • प्रांतों में द्वैध शासन समाप्त कर प्रांतीय स्वायत्तता की व्यवस्था की गई|
  • बर्मा को भारत से अलग किया गया|
  • इंडियन काउंसिल को खत्म कर दिया गया तथा आरबीआई की स्थापना की गई|

You May Also Like This-

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं आप इसे Facebook WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे| और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

  • Disclaimer:currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,
  • तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है,
  • न ही बनाया न ही स्कैन किया है |
  • हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है|
  • यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- currentshub@gmail.com

loading...

About the author

mahi

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद

Leave a Comment