इतिहास

भारत के गवर्नर जनरल,लॉर्ड चार्ल्स मेटकॉफ ,लॉर्ड विलियम बैंटिक ,लॉर्ड डलहौजी ,

दूसरों के साथ शेयर कीजिये

भारत के गवर्नर जनरल

Online परीक्षा में पूछे गये संसद सम्बन्धी महत्वपूर्ण प्रश्न-hello दोस्तों आज मैं  आप लोगो के  लिए  ऑनलाइन की परीक्षा में अबतक पूछे गये भारत के गवर्नर जनरल,लॉर्ड चार्ल्स मेटकॉफ ,लॉर्ड विलियम बैंटिक ,लॉर्ड डलहौजी , के बारे में प्रश्नो  का संग्रह लेकर आया हूँ| जो Students SSC,BANK RAILWAY या One day exams की तैयारी करते है ,उनके लिए यी बहुत ही महत्वपूर्ण है | वे इसे अवश्य  पढ़े क्योकि आगामी परीक्षा में इससे Questions आने की संभावना है |

लॉर्ड विलियम बैंटिक (1828-1835)

 

  • कार्य -लार्ड विलियम बेंटिक को भारत का प्रथम गवर्नर जनरल बना|
  • सामाजिक सुधारों में बैंटिक का सर्वाधिक महत्वपूर्ण योगदान है 1829 में सती प्रथा का अंत |
  • बैंटिक ने कर्नल स्लीमन तथा स्थानीय रियासतों की मदद से ठगी प्रथा समाप्त (1830)
  • तथा बाल हत्या को प्रतिबंधित किया|
  • नक्सली प्रथा का अंत |
  • उसके मन में मैकाले की सिफारिशों के बाद अंग्रेजी को शिक्षा का माध्यम स्वीकार कर लिया गया |
  • कोलकाता मेडिकल कॉलेज की स्थापना |

लॉर्ड चार्ल्स मेटकॉफ (1835-1836)

  • कार्य -इसलिए प्रेस एक्ट (1835) पारित किया, जिसके अंतर्गत भारतीय समाचार पत्रों पर आरोपित नियंत्रण को समाप्त कर दिया गया |
  • इसी “भारतीय प्रेस का मुक्तिदाता” कहा जाता है |

 

ऑकलैंड प्रथम (1836-1842)

  • घटना;महत्वपूर्ण घटना प्रथम आंग्ल अफगान युद्ध (1838-1842) जिसमें अंग्रेजो को पराजय का सामना करना पड़ा |
  • कार्य -उसने भारत के विभिन्न सरकारी स्कूलों में अनेक छात्रवृतियाँ आरंभ किया,
  • साथ ही सभी प्रारंभिक स्कूलों में शिक्षा का माध्यम क्षेत्र की प्रादेशिक भाषा रखी गई |

लार्ड एलिनबरो(1842-1844)

  • कार्य -इसका कार्य काल कुशल अकर्मण्यता की नीति का काल कहा जाता है |
  • इसने 1843 में एक्ट-V के द्वारा भारत में दास प्रथा का उन्मूलन किया |
  • सिंध का विलय इसी के समय में हुआ |

लार्ड हार्डिंग (1844-1848) 

  • कार्य -उसके समय की सबसे महत्वपूर्ण घटना थी -प्रथम आंग्ल सिख युद्ध (1845-1846) ,
  • जिसमें अंग्रेजी सेना ने लाहौर पर अधिकार कर लिया और सिखों से लाहौर की संधि(1848) हुई |
  • उसने सुधारों के मुख्य रूप से उत्पाद कर से बहुत सी वस्तुओं को मुक्त करना,
  • नमक पर वसूली जाने वाली राशि को आधा कर दिया |
  • नरबलि प्रथा का दमन हेतु कैम्पबेल की नियुक्ति |

लॉर्ड डलहौजी (1848-1856) 

  • कार्य -द्वितीय आंग्ल सिख युद्ध (1848-1849) तथा पंजाब का ब्रिटिश शासन में विलय (1849) इसी के समय में हुआ |
  • निचले बर्मा तथा पीगो का ब्रिटिश साम्राज्य में डलहौजी के समय में ही विलय किया गया |
  • डलहौजी ने सिक्किम पर अंग्रेज डॉक्टरो के साथ दुर्व्यवहार का आरोप लगाकर अधिकार कर लिया (1850) |
  • सैन्य सुधारों के अंतर्गत डलहौजी ने तोपखाने के मुख्यालय को कलकत्ता से मेरठ स्थानांतरित किया
  • तथा सेना का मुख्यालय शिमला में स्थापित किया |
  • शिमला भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनी |

वुड डिस्पैच

  • शिक्षा संबंधी सुधारो में डलहौजी ने 1854 के ‘वुड डिस्पैच‘ को लागू किया |
  • प्राथमिक शिक्षा से लेकर विश्वविद्यालय स्टार तक की शिक्षा के लिए एक व्यापक योजन बनाई गयी|
  • रुड़की का इंजीनियरिंग कॉलेज इन के समय स्थापित हुआ |
  • डाक विभाग में सुधार करते हुए डलहौजी ने 1854 में नया ‘पोस्ट ऑफिस एक्ट’ पास किया |
  • प्रथम बार डलहौजी ने भारत में डाक टिकटों का प्रचलन प्रारंभ किया |

भारत में रेलवे का जनक 

डलहौजी को भारत में रेलवे का जनक माना जाता   है क्योंकि उन्हीं के प्रयत्नों के फलस्वरूप महाराष्ट्र में मुंबई से थाणे तक प्रथम रेल 1853 में चलाई गई |

इस रेल सेवा को ग्रेट इंडियन पेनिनसुला रेलवे नामक कंपनी ने प्रारंभ किया|

 

 

 

 

You May Also Like This-

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं आप इसे Facebook WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे| और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

  • Disclaimer:currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,
  • तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है,
  • न ही बनाया न ही स्कैन किया है |
  • हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है|
  • यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- currentshub@gmail.com

 

loading...

About the author

mahi

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद

Leave a Comment