Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Gk/GS

GK Trick – वायुमंडल की परतें

दूसरों के साथ शेयर कीजिये

GK Trick – वायुमंडल की परतें

GK Trick Geography

Hello Friends,  वायुमंडल की परतों से संबंधित बहुत से Question अक्सर Exam में आते रहते है ! लेकिन हम अक्सर भूल जाते है कि कौन सी परत पहले है और कौन सी बाद में ! तो आज हम आपको वायुमंडल की परतों को क्रमबद्ध ( ऊपर से नीचे की ओर ) तरीके से याद रखने की ट्रिक बताऐंगे !

तो चलिये शुरु करते है –

GK TRICK 

छोड सबको में आया बाहर

Explanation

छोड – छोभ मंडल
सबको – समताप मंडल
में – मध्य मंडल
आया – आयन मंडल
बाहर – बाहय मंडल

तो अब आप इससे संबंधित Question कभी नहीं भूलेंगें !

वायुमंडल की परतों से संबंधित अन्य तथ्य – 

GK Trick – वायुमंडल की परतें
GK Trick - वायुमंडल की परतें

1-क्षोभमण्डल

  • यह मण्डल जैव मण्डलीय पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है क्योंकि मौसम संबंधी सारी घटनाएं इसी में घटित होती हैं।
  • प्रति 165 मीटर की ऊंचाई पर वायु का तापमान 1 डिग्री सेल्सियस की औसत दर से घटता है। इसे सामान्य ताप पतन दर कहते है।
  • इस मण्डल की सीमा विषुवत वृत्त के ऊपर 18 किमी की ऊंचाई तक तथा ध्रवों के ऊपर लगभग 8 किमी तक है।

2-समतापमण्डल

  • इसकी मोटाई 50 किमी से 55 किमी तक है।
  • इस मण्डल में तापमान स्थिर रहता है तथा इसके बाद ऊंचाई के साथ बढ़ता जाता है।
  • समताप मण्डल बादल तथा मौसम संबंधी घटनाओं से मुक्त रहता है।
  • इस मण्डल के निचले भाग में जेट वायुयान के उड़ान भरने के लिए आदर्श दशाएं हैं।
  • इसकी ऊपरी सीमा को ‘स्ट्रैटोपाज’ कहते हैं।
  • इस मण्डल के निचले भाग में ओज़ोन गैस बहुतायात में पायी जाती है। इस ओज़ोन बहुल मण्डल को ओज़ोन मण्डल कहते हैं।
  • ओज़ोन गैस सौर्यिक विकिरण की हानिकारक पराबैंगनी किरणों को सोख लेती है और उन्हें भूतल तक नहीं पहुंचने देती है तथा पृथ्वी को अधिक गर्म होने से बचाती हैं।

3-मध्य मण्डल

  • इसका विस्तार 50-55 किमी से 80 किमी तक है।
  • इस मण्डल में तापमान ऊंचाई के साथ घटता जाता है तथा मध्यमण्डल की ऊपरी सीमा मेसोपाज पर तापमान 80 डिग्री सेल्सियस बताया जाता है।

4-आयन मण्डल

  • इस मण्डल में ऊंचाई के साथ ताप में तेजी से वृद्धि होती है।
  • आयन मण्डल, तापमण्डल का निचला भाग है जिसमें विद्युत आवेशित कण होते हैं जिन्हें आयन कहते हैं।
  • ये कण रेडियो तरंगों को भूपृष्ठ पर परावर्तित करते हैं और बेतार संचार को संभव बनाते हैं।

5-बाह्यमण्डल

  • इसे वायुमण्डल का सीमांत क्षेत्र कहा जाता है। इस मण्डल की वायु अत्यंत विरल होती है।

You May Also Like This-

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं आप इसे Facebook WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

loading...

About the author

Shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment