Gk/GS

महासागर -प्रशांत महासागर ,अटलांटिक महासागर ,हिन्द महासागर,दक्षिणी महासागर,आर्कटिक महासागर

विश्‍व के प्रमुख महासागर – 5 Oceans of the World

महासागर -प्रशांत महासागर ,अटलांटिक महासागर ,हिन्द महासागर,दक्षिणी महासागर महासागर,आर्कटिक महासागर – Hello Friends, Welcome to currentshub, दोस्तों जैसा की आप लोग जानते ही है की हम आपको प्रतिदिन कुछ नई study मटेरियल provides करते है |आज हम आपके लिए महासागर -प्रशांत महासागर ,अटलांटिक महासागर ,हिन्द महासागर,दक्षिणध्रुवीय महासागर/दक्षिणी महासागर या अंटार्कटिक महासागरआर्कटिक महासागर नोट्स लेकर आये है. इस pdf notes से आप UPSC , IAS , PCS , SSC , Railway और अन्य competitive exams की तैयारी कर सकते है.

महासागर -प्रशांत महासागर ,अटलांटिक महासागर ,हिन्द महासागर,अंटार्कटिक महासागर,आर्कटिक महासागर

महासागर -प्रशांत महासागर ,अटलांटिक महासागर ,हिन्द महासागर,अंटार्कटिक महासागर,आर्कटिक महासागर

महासागर (Ocean)

महासागर जलमंडल का प्रमुख भाग है। यह खारे पानी का विशाल क्षेत्र है। यह पृथ्वी का 96.6भाग अपने आप से ढांके रहता है (लगभग 36.9 करोड वर्ग किलोमीटर)| जिसका आधा भाग ३००० मीटर गहरा है।

संपूर्ण जल भाग की 5 महासागरों में विभाजित किया गया है : –

१ प्रशान्त महासागर

२ अटलांटिक महासागर

३ हिन्द महासागर

४ आर्कटिक महासागर

दक्षिणध्रुवीय महासागर/दक्षिणी महासागर या अंटार्कटिक महासागर

➡ संपूर्ण पृथ्वी के लगभग 3/4 भाग में जलमंडल का विस्तार है , इसलिए पृथ्वी को जलीय ग्रह भी कहा जाता है ।
➡ बैगनर के अनुसार , धरातल के 71.7% भाग पर जल एवं 28.3% भाग पर स्थल पाया जाता है। जबकि क्रेमेल के अनुसार , 70.8% भाग पर जल एवं 29.2% भाग पर स्थल पाया जाता है।
-NCRT किताब में : – पृथ्वी के लगभग 71% भाग पर महासागर एवं 29% भाग पर स्थल या महाद्वीप का विस्तार है ।

➡ पृथ्वी पर जल निम्न रूपो में पाया जाता है –
महासागर            : –   97.2%
हिमनद                : –   2.05%
भूमिगत जल        : –   0.61%
झीलों में               : –   0.01%

➡ महासागरीय गहराई को फैदम (फैदम बराबर 6 फीट) में मापा जाता है ।

➡ महासागर की गहराई का क्रम निम्न है : – (1) महाद्वीप मग्न तट , (2) महाद्वीपीय ढाल , (3) महाद्वीपीय उत्थान , (4) महासागरीय मैदान ।
➡ महासागरीय जल के दो महत्वपूर्ण गुण होते है : – तापमान व लवणता

  तापमान

➡ महासागरीय जल का तापमान 5 डिग्री – 33 डिग्री सेंटीग्रेट के मध्य होता है ।
➡ सर्वाधिक तापमान हिंद महासागर का 17.03 डिग्री C है ।
➡ महासागरीय जल का अधिकतम तापमान 2 PM पर व न्यूनतम तापमान प्रायः 5 AM पर होता है ।
➡ सागर का क्वथनांक बिंदु सामान्य जल से अधिक होता है  ।
➡ बढ़ते अक्षाशों के साथ तापमान जे घटने की दर 0.5 डिग्री C है ।

लवणता

➡ सागरीय जल के भार व उसमे घुले हुए पदार्थो के भार के अनुपात को सागरीय लवणता कहा जाता है ।
➡ समान लवणीय स्थानों को मिलाने वाली रेखा आइसोहेलाइन कहलाती है तो लवणता मापी यंत्र सेलीनो नेक्टर है ।
➡ अधिक लवणता वाला सागर देर से जमता है तथा वाष्पीकरण न्यून होता है ।
➡ कर्क व मकर रेखा के पास लवणता सर्वाधिक पाई जाती है ।
➡ महासागरीय लवणता का औसत 35 ग्राम प्रति हजार है जबकि सर्वाधिक लवणता वाला महासागर अटलांटिक महासागर (36 ग्राम प्रति हजार) है ।
➡ सर्वाधिक लवणता वाला सागर भूमध्य सागर 39 ग्राम प्रति हजार है ।
➡ हिमनद स्वच्छ जल के सबसे विशाल भंडार है ।

 प्रशान्त महासागर

➡ विश्व का सबसे बड़ा व सबसे गहरा महासागर है ।
➡ इस महासागर को सुख समृद्धि एवं सम्पन्नता का देवता कहा जाता है ।
➡ यह महासागर एशिया महाद्वीप से चार गुना बड़ा है । व कुल महासागरों के धरातल का 1/3 भाग घेरता है ।
➡ इस महासागर की आकृति त्रिभुजाकार है ।
➡ प्रशान्त महासागर को जल गोलार्द्ध भी कहा जाता है ।
➡ इसका आधार दक्षिण में अंटार्कटीका महाद्वीप एवं इसका शीर्ष उत्तर में बेरिंग जलसंधि , पश्चिम में एशिया व ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप जबकि पूर्व में उत्तरी व दक्षिणी अमेरिका है ।

 – : यह भी जाने : – 

✍ प्रवाल भित्तियां प्रशान्त महासागर की विशेषता है ।
✍ प्रशान्त महासागर की सतह का तापक्रम अन्य सभी महासागरों से अधिक ( 66.4 डिग्री फारेनहाइट ) होता है । इसी कारण यहां सर्वाधिक भूकंप व ज्वालामुखी आते है ।
✍ मध्य प्रशान्त महासागर में हवाईयन उभार प्रमुख है ।
✍ इसके बैसिन की औसत गहराई 7,300 मीटर है ।
✍ आधार तल् की दृष्टि से विश्व का सबसे ऊँचा पर्वत मोनाकी एक ज्वालामुखी पर्वत है ।

 प्रशान्त महासागर के प्रमुख गर्त

(1) मेरियाना गर्त : – पश्चिमी प्रशान्त महासागर 11022 मीटर
(2) होंगा गर्त : – मध्य दक्षिणी प्रशान्त महासागर 10882 मीटर
(3) स्वायर गर्त : – उत्तरी पश्चिमी प्रशान्त महासागर 10475 मीटर
(4) क्यूरायल पर्वत : – सखालीन द्वीप समूह 10498 मीटर

 प्रमुख सीमांत सागर
➡ बेरिंग ,आरफुरा ,रॉस ,तस्मान , जापान , चीन , पीत , कोरल सागर , अलास्का की खाड़ी , पनामा की खाड़ी आदि

   अटलांटिक महासागर 

➡ यह विश्व का दूसरा सबसे बड़ा महासागर है जिसे अंध महासागर भी कहते है ।
➡ इसका आकार अंग्रेजी के ‘ S ‘ अक्षर के समान है ।
➡ इसकी औसत गहराई 4229 किमी है विश्व में औसत गहराई के आधार पर तीसरा स्थान है ।
➡ विश्व की सबसे गर्म जलधारा ‘ गल्फ स्ट्रीम ‘ तथा सबसे ठंडी जलधारा ‘ लेब्रोडोर ‘ इसी महासागर में स्थित है ।
➡ इसके दोनों तरफ विकसित देश है । इस कारण विश्व का 75% अंतर्राष्ट्रीय व्यापार इसी महासागर के माध्यम से होता है ।

 प्रमुख सीमांत सागर
➡ कैरिबियन , उत्तरी सागर , मैक्सिको की खाड़ी हडसन की खाड़ी , लेब्रेडोर सागर , सेन्ट लॉरेन्स की खाड़ी , बैफिन की खाड़ी , इंग्लिश चैनल , भूमध्य सागर , गिनी की खाड़ी , कील नहर , फ्लोरिडा की खाड़ी , सेन्ट जॉर्ज चैनल , डावर जल संधि , नॉर्थ चैनल इत्यादि

  हिन्द महासागर

➡ इसका उद्भव ‘ गोंडवाना लैंड ‘ के विभाजन के बाद हुआ जिसे प्राचीन भारतीय भूगोल के अंतर्गत ‘ रत्नाकर ‘ कहा गया है ।
➡ यह विश्व का तीसरा बड़ा महासागर है ।
➡ इस महासागर की आकृति अंग्रेजी के *’ M ‘ अक्षर के समान है । इसे अर्द्ध महासागर भी कहते है ।
➡ इस महासागर  में सोडियम क्लोराइड की मात्रा सबसे कम पाई जाती है । इसकी औसत गहराई 3950 किमी है ।
➡ इस महासागर को ‘ भारत ‘ दो भागों में विभाजित करता है : – 1. बंगाल की खाड़ी , 2. अरब सागर ।
➡ कर्क रेखा इस महासागर की अंतिम उत्तरी सीमा ही ।
➡ ‘ डि एगो गार्सिया ‘ द्वीप ब्रिटिश शासन में ब्रिटिश अधिकारियों का औपनिवेशिक नौ सेना व वायु सेना का अड्डा है ।

अमरीका का नौसैनिक हवाई अड्डा हिन्द महासागर के डि एगो गार्सिया में है ।

➡ सोकोतेरा : – अदल की खाड़ी में यह द्वीप है । यह यमन देश में है । यहां पर एशिया की सामरिक उपस्थिति है ।
➡ कोकोद्वीप : – अंडमान निकोबार का द्वीप है । चाइना की उपस्थिति है ।
➡ हम्बनटोटा : – श्रीलंका के ऊपर स्थित पोर्ट है जिस पर चाइना अपनी उपस्थिति कायम कर रहा है ।

प्रमुख सीमांत सागर

➡ बंगाल की खाड़ी , अरब सागर , अंडमान सागर , ग्रेट ऑस्ट्रेलियन व्हाइट , फारस की खाड़ी , अदन की खाड़ी , लाल सागर , मोजाम्बिक चैनल इत्यादि

आर्कटिक महासागर

➡ विश्व का सबसे छोटा महासागर है , जो उत्तरी ध्रुव के चारो ओर फैला हुआ है ।
➡ यह एकमात्र महासागर है जो बर्फीला है ।
➡ यह बेरिंग जलसंधि द्वारा प्रशान्त मगसागर एवं डेनमार्क जलसंधि द्वारा अटलांटिक महासागर से जुड़ा है ।
➡ इसकी आकृति अंग्रेजी के ‘ D ‘ अक्षर के समान है ।
➡ यह एक गोलाकार सबसे उथला महासागर है
➡ आर्कटिक महासागर में साईबेरियन शेल्फ विश्व में सबसे बड़ा मग्न तट है जिसकी चौड़ाई 1500 किमी . है ।

दक्षिणध्रुवीय महासागर/दक्षिणी महासागर या अंटार्कटिक महासागर

  • अंटार्कटिक महासागर में दक्षिणी ध्रुव शामिल है।
  • सर्दियों के दौरान अंटार्कटिक महासागर का आधा हिस्सा हिमखंडों और बर्फ में ढँक जाता है। अंटार्कटिक की बर्फ की चादर से कुछ बर्फ और हिमखंड टूटते हैं और अंटार्कटिक महासागर के पानी में तैरते हैं।
  • दुनिया की सबसे बड़ी पेंगुइन की प्रजाति अंटार्कटिक महासागर की बर्फ और अंटार्कटिका महाद्वीप पर रहती है।
  • दुनिया का 90% बर्फ अंटार्कटिका में है। अंटार्कटिक महासागर की सीमाओं के भीतर निहित यह महाद्वीप दुनिया में सबसे ठंडा महाद्वीप है।
  • अंटार्कटिका को इस तथ्य के कारण एक रेगिस्तान माना जाता है कि इसकी सतह पर बहुत कम नमी गिरती है। अंटार्कटिका की तुलना में सहारा रेगिस्तान में अधिक वर्षा होती है। इसकी अधिकांश नमी बर्फ के रूप में गिरती है।
  • अंटार्कटिक महासागर में गर्मी का मौसम अक्टूबर से फरवरी तक चलता है जबकि सर्दियों का मौसम मार्च से सितंबर तक चलता है।
  • अंटार्कटिका की बर्फ के सतह के नीचे समुद्र का पानी केवल -2 डिग्री सेल्सियस तक पहुँचता है।
  • अंटार्कटिक महासागर का सबसे गहरा हिस्सा दक्षिण सैंडविच ट्रेंच का दक्षिणी छोर है जो 23,737 फीट गहरा है। अंटार्कटिक महासागर की औसत गहराई 13,100 से 16,400 फीट है।
  • 1911 तक दक्षिणी ध्रुव पर मनुष्य नहीं पहुँच पाया था। यहाँ पर तापमान -100 डिग्री फ़ारेनहाइट से भी कम हो सकता है। धरती पर सबसे ठंडा तापमान अंटार्कटिका में दर्ज किया गया। यह -128.6 डिग्री फ़ारेनहाइट था।
  • ऐसा माना जाता है कि अगर अंटार्कटिक महासागर में बर्फ की चादरें पिघलीं तो दुनिया भर के समुद्र की उँचाई 65 मीटर तक बढ़ जाएगी।

इसी भे पढ़ें…

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimer:currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- [email protected]

About the author

shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment