Gk/GS

साइकिलिंग(इतिहास,साइकिलिंग के नियम) Cycling in Hindi

साइकिलिंग(इतिहास,साइकिलिंग के नियम)
साइकिलिंग(इतिहास,साइकिलिंग के नियम)

साइकिलिंग(इतिहास,साइकिलिंग के नियम) Cycling in Hindi

साइकिलिंग

1839 में स्कॉटलैंड के एक लुहार किर्कपैट्रिक मैकमिलन द्वारा आधुनिक साइकिल का अविष्कार होने से पूर्व यह अस्तित्व में तो थी पर इस पर बैठकर जमीन को पाँव से पीछे की ओर धकेल कर आगे की तरफ बढ़ा जाता था | ऐसा माना जाता है कि 1817 में जर्मनी के बैरन फाँन ड्रैविस ने साइकिल की रूपरेखा तैयार की | यह लकड़ी की बनी साइकिल थी तथा इसका नाम ड्रोरियेन रखा गया था उस समय इस साइकिल की गति 15 किलोमीटर प्रति घंटा थी |

ट्रैक साइकिलिंग साइकिल रेसिंग का खेल है, आमतौर  पर ट्रैक साइकिलों के लिए विशेष रूप से निर्मित ट्रैक या वेलोड्रम को उपयोग में लाया जाता है (लेकिन अधिकतर प्रतियोगिताएं पुराने वेलोड्रमों पर आयोजित की जाती है जिसके ट्रैक के किनारे अपेक्षाकृत उथले होतें है) |

ट्रैक रेसिंग खेल के समतल मैदान पर घास के मैदान या ट्रैक पर भी की जाती है | इस तरह की प्रतियोगिताएं स्कॉटलैंड में गर्मियों के दौरान हाईलैंड गेम्स प्रतियोगिता में बहुत आम है, लेकिन इंग्लैंड में गर्मियों के दौरान और भी कई नियमित खेल खेले जाते है |

इतिहास- 1870 के बाद से ट्रैक साइकिलिंग की शुरुआत हो गयी थी | जब साइकिलिंग अपनी प्राम्भिक अवस्था में था तब इसके लिए लकड़ी के ट्रैक बनाये जाते थे जो आधुनिक युग के वेलोड्रोम्स से मेल खाते थे, जिमसे दो सीधे ट्रैक और घुमाव पर किनारे बने होते थे |

साइकिलिंग की पूरी एक शताब्दी में सबसे महत्वपूर्ण बदलाव था बाइक, जिसे और अधिक हल्का और कई गुना तेज़ एवं वायुगतिकीय बनाया गया |

चालन मुद्रा- रोड और ट्रैक रेसिंग दोनों में ही वायुगतिकीय खिंचाव एक महतवपूर्ण कारक है | एक हल्के और वायुगतिकीय डिज़ाइन के लिए फ्रेम्स का निर्माण अक्सर ढाले हुए कार्बन फाइबर के ट्यूबो के अनुभागीय आकार में एयर फॉयल क्रॉस लगे हो सकते है | घटक समूह के डिज़ाइन के लिए वायुगतिकीय पर सबसे अधिक ध्यान दिया जा रहा है |

वायुगतिकीय के महत्त्व को देखते हुए सवार के बैठने की स्थिति अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाती है | सवारी की स्थिति रोड रेसिंग स्थिति के समान होती है, लेकिन अंततः यह साइकिल के फ्रेम की ज्यामिति और हैंडलबार के इस्तेमाल पर निर्भर करता है | ट्रैक बाइक में हैंडलबार का इस्तेमाल पॉइंट रेस जैसी लम्बी दूरी वाली प्रतियोगिता के लिए होता है जो कि रोड साइकिल में लगे ड्रॉप सलाखों के समान है | हालांकि, स्प्रिंट प्रतियोगिता के लिए होता है जो की रोड साइकिल में लगे होते है | सलाखें काफ़ी नीची होती है और सीट ऊँची और सामने की तरफ होती है | सलाखें अक्सर सकरी और बहुत नीची होती है | स्टील की सलाखें, मिश्रित धातु या कार्बन फाइबर के विरुद्ध अपनी मजबूती और टिकाउपन के कारण अभी भी कई धावकों द्वारा प्रयोग में लायी जाती है |

रेस का स्वरुप- ट्रैक साइकिलिंग प्रतियोगिता की दो व्यापक श्रेणियाँ है, स्प्रिंट रेस और एन्डोरेंस रेस राइडर्स आमतौर  पर एक श्रेणी में आते है और दूसरें में प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकते | जूनियर रैंक के सभी दौर में सक्षम होने बाद ही सवार सीनियर रैंक के किसी भी अन्य स्पर्धा पर ध्यान केन्द्रित कर सकते है |

स्प्रिंट रेस आमतौर पर 3 और 8 चक्र के बीच लम्बा होता है और विरोधियों को हारने के लिए दौड़ की रणनीति पर ध्यान दिया जाता है | स्प्रिंट सवार विशेष रूप से प्रशिक्षित किये जाते है और लम्बी एन्डोरेंस रेस में प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकते |

साइकिलिंग के नियम- 

 

 

Note: इसके साथ ही अगर आपको हमारी Website पर किसी भी पत्रिका को Download करने या Read करने या किसी अन्य प्रकार की समस्या आती है तो आप हमें Comment Box में जरूर बताएं हम जल्द से जल्द उस समस्या का समाधान करके आपको बेहतर Result Provide करने का प्रयत्न करेंगे धन्यवाद।

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimer:currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- [email protected]

About the author

shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment