Gk/GS

सिन्धु घाटी सभ्यता सामान्य ज्ञान GK in hindi/Harappa Civilization in Hindi

सिन्धु घाटी सभ्यता सामान्य ज्ञान
सिन्धु घाटी सभ्यता सामान्य ज्ञान

indus valley civilization important points facts for UPSC

सिन्धु घाटी सभ्यता सामान्य ज्ञान GK in hindi/Harappa Civilization in Hindi

सिन्धु घाटी सभ्यता सामान्य ज्ञान GK in hindi-Hello Students Currentshub.com पर आपका एक बार फिर से स्वागत है मुझे आशा है आप सभी अच्छे होंगे. दोस्तो जैसा की आप सभी जानते हैं की हम यहाँ रोजाना Study Material अपलोड करते हैं. दोस्तों आज हम आप लोगो को सिन्धु घाटी सभ्यता सामान्य ज्ञान GK in hindi के बारे में विस्तार से बताने वाले है.सिन्धु घाटी सभ्यता सामान्य ज्ञान GK in hindi  जो  विभिन्न competetive exams में History सेक्शन  से  अक्सर प्रश्न  पूछे जाते है. Ancient History में सिन्धु या हडप्पा सभ्यता का इतिहास बहुत ही पुराना और रोचक है क्योकि यही से मानव के विकास की प्रारम्भिक अवस्था का साक्ष्य मिलता है तो क्यों ना हम लोग इसके बारे में जानने की कोशिश करते  है . यहाँ पर हमने Sindhu या hadppa के उन्ही बिन्दुओ के बारे में जानकारी दी है जो exams में gk questions अक्सर पूछे जाते है।

सिंधु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilisation-IVC)

  • यह हड़प्पा सभ्यता के नाम से भी प्रसिद्ध है।
  • लगभग 2,500 ईसा पूर्व में यह समकालीन पाकिस्तान और पश्चिमी भारत में विकसित हुई।
  • सिंधु घाटी सभ्यता चार प्राचीन शहरी सभ्यताओं यथा; मिस्र, मेसोपोटामिया, भारत और चीन की में सबसे बड़ी थी।
  • वर्ष 1920 के दशक में भारतीय पुरातत्त्व विभाग (Indian Archeological Department) ने सिंधु घाटी में खुदाई की जिसमें दो पुराने शहरों मोहनजोदाड़ो और हड़प्पा के खंडहर का पता चला।

 

NCERT BOOKS DOWNLOAD

सिंधु घाटी या हड़प्पा सभ्यता का इतिहास तथा इससे जुड़ी रोचक Facts | 40 Importance Facts of Harappa Civilization in Hindi 

यहाँ पर indus Ghati GK या हडप्पा सभ्यता से जुडी रोचक जानकारी प्रदान कर रहे है आप इसे ध्यानपूर्वक पढ़े साथ ही आपने dosto के साथ भी शेयर करे यह पर हडप्पा के इतिहास, पतन के कारण इस सभी के बारे में बताया गया है अगर इसे आप एक बार अच्छे से पढ़ लिए तो आपको और कही से पढने की जरुरत नहीं पढेगी competetive exams में सारे सिन्धु सभ्यता के सारे प्रश्नों को जवाब दे पायेगे।

  • सिन्धु सभ्यता को हडप्पा सभ्यता इसलिए कहा जाता है क्योकि सर्वप्रथम 1921 में सहीबाल  जिले के हडप्पा नामक स्थान से इस सभ्यता की जानकारी हुई .
  • indus नदी के आस पास बड़ी संख्या में सिन्धु स्थलों के मिलने से इसे indus sabhyata कहा गया .
  • इस सभ्यता को कांस्य युगीन भी कहा जाता है क्योकि इसी समय मनुष्य ने ताबा और टिन के मिश्रण से कास्य का निर्माण किया था .
  • इसका क्षेत्रफल 1299600 वर्ग किमी है .
  • 1921 में रावी नदी के तट पर बसे हडप्पा की खोज दयाराम साहनी ने की थी .
  • sindhu सभ्यता का नामकरण जान मार्शल ने किया था .
  • हडप्पा को विद्वानों ने सिन्धु सभ्यता की प्रथम राजधानी माना है .
  • हडप्पा से ईंटो के चबूतरो पर स्थित दो कतारों में 6 – 6 धान की कोठिया प्राप्त हुयी है .
  • व्हीलर गार्डन का मत है की मैसोपोटामिया के लोग ही सिन्धु सभ्यता के जनक थे .
  • हडप्पा सभ्यता में सोना फारस , अफगानिस्तान एवं कर्नाटक से आयात होता था .
  • तांबा खेतड़ी (राजस्थान ) से मंगाया जाता था .
  • टिन का आयात अफगानिस्तान एवं मध्य एशिया से होता था .
  • रखीगढ़ी भारत में विशालतम हडप्पा कालीन बस्ती है .
  • sindhu घाटी से मिली मुहरो का सर्वाधिक निर्माण selkhadi से किया जाता था .
  • धौलावीर नवीनतम ज्ञात हडप्पा कालीन स्थल है .
  • बहरीन सिन्धु एवं मेसोपोटामिया के मध्य का प्रमुख बंदरगाह था .
  • व्हीलर ने हड़प्पा सभ्यता के अंत को सैनिक आक्रमण माना है .
  • सैंधव वासी दशमलव प्रणाली पर आधारित बाटो का प्रयोग करते थे .
  • सैंधव सभ्यता के पतन का मुख्या कारण अब भी अज्ञात है .
  • प्रसिद्ध भारतीय बुगर्भशाश्त्री M R Sahni ने जलप्लावन का प्रमुख कारण माना है .
  • व्हीलर ने आर्यों के आक्रमण को इस सभ्यता का कारण माना .
  • indus Civilization के निवासी माता देवी के उपासक थे .
  • हडप्पा से एक मृण मूर्ति मिली है जिससे गर्भ से एक पीपल का पौधा निकलता दिखाया गया है . इससे पता चलता है कि हडप्पवासी धरती को उर्वरता की देवी मानते थे .
  • सिन्धु सभ्यता से वृक्ष भी प्रचलित थी पीपल को पेड़ माना जाता था .
  • इस सभ्यता के लोग पशुओ की पूजा भी करते थे इसमें प्रमुख था – कूबड़ वाला सांड .
  • व्यापर में नावो का प्रयोग करते थे . ठोस पहिये वाली बैलगाडियो का प्रयोग भी करते थे .
  • हडप्पा सभ्यता के लोग धातु मुद्राओ का प्रयोग नहीं करते थे .
  • भारत में प्राप्त विदेशी वस्तुएं है – लोथल से प्राप्त फारस की मुहर, कालीबंगा से मेसोपोटामिया की एक बेलनाकार मुहर .
  • देवदार एवं शिलाजीत हिमालय से मंगाए जाते थे .
  • लोथल से हाथी दांत का एक पैमाना मिला है .
  • sindhu सभ्यता लिपि में लगभग 400 चिन्ह ज्ञात है . लिखावट सामान्य दायी से बाई ओर है . sindhu लिपि पढ़ पाने में अभी तक सफलता नहीं मिली है .
  • सिन्धु लिपि के प्रत्येक चिन्ह किसी ध्वनी, वस्तु अथवा विचार से है . लिपि वर्ण कलात्मक नहीं बल्कि भाव चित्रात्मक है .
  • कृषि में अभी तक 9 फसले पहचानी गयी है .
  • चावल की कृषि का साक्ष्य लोथल (गुजरात ) से मिलता है .
  • जौ की 2 किस्मे , गेंहू की 3 किस्मे, कपास, खजूर, तरबूज मटर भी उपजाए जाते थे .
  • sindhu सभ्यता के लोग कपास की खेती करने वाले सबसे पहले लोग थे .
  • हडप्पा से तरबूज के बीज मिले है .
  • ऊंट, गैंडा, मछली, कछुए का चित्रण सिन्धु घाटी की मुद्राओ पर हुआ है .

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimer: currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- [email protected]

About the author

shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment