Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Gk/GS

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर सहित 2019 GK in Hindi-currentshub

दूसरों के साथ शेयर कीजिये

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर सहित 2019 GK in Hindi – Hello Friend’s,currentshub.com पर आपका स्वागत है, आज मै आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर सहित 2019 शेयर कर रहा हूँ. जो छात्र SSC, Railway, Banking, SBI, Clerk, Bank PO, IBPS, MBA, CAT या अन्य किसी Competitive Exam की तैयारी कर रहे है तो उन्हें सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर सहित 2019 पढना चाहिए. यह Notes उन सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये Useful है जिसमे सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर  को विशेषकर पूछा जाता है।

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर

इसे भी पढ़ें…

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर – GK in Hindi 2019

1. क्षेत्रफल की दृष्टि से प्राचीन सभ्यताओं में हड़प्पा संस्कृति का विस्तार सर्वाधिक था.

2. सिंधु सभ्यता त्रिभुजाकार क्षेत्र में फैली हुई थी तथा इसका क्षेत्रफल 1299600 वर्ग किलोमीटर था.

3. विद्वानों के अनुसार सिंधु सभ्यता की प्रथम राजधानी हड़प्पा थी.

4. सिंधु घाटी की सभ्यता को हड़प्पा सभ्यता के नाम से भी जाना जाता है.

5. प्रारंभ में सिंधु घाटी सभ्यता सिंधु और उसकी सहायक नदियों के समीपस्थ क्षेत्रों में स्थित थी, जिसके कारण इसे सिंधु सभ्यता का नाम दिया गया.

6. सिंधु घाटी सभ्यता एक नगरीय सभ्यता थी.

7. सिंधु सभ्यता के नगर आधुनिक व्यवसायिक शैली पर निर्मित किए गए थे.

8. विशाल अन्नागारो के अवशेष हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो से प्राप्त हुए हैं.

9. मोहर निर्माण मैं सेल खड़ी का प्रयोग सर्वाधिक हुआ है.

10. सिंधु निवासी अधिकांश तांबे और कांस्य से बने अस्त्र शस्त्र का प्रयोग करते थे.

11. उत्खनन में मोहनजोदड़ो से सर्वाधिक विशाल एवं सार्वजनिक स्नानागार प्राप्त हुआ है.

12. कालीबंगा और रंगपुर नगर को छोड़कर नगर निर्माण के कार्य में प्राय पक्की हुई ईटों का प्रयोग किया जाता था.

13. ऐसा अनुमान है कि स्वास्तिक चिन्ह हड़प्पा की ही देन है.

14. रोपड़, बाड़ा, एवं संघोल भारत के पंजाब प्रांत में स्थित हैं.

15. राखीगढ़ी नामक पुरास्थल हरियाणा राज्य के जींद जिले में स्थित है.

REASONING BOOK UPKAR by MONU TYAGI pdf free Downloaddownload

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर सहित 2019

16. हड़प्पा से प्राप्त मुद्रा में गरुड़ का अंकन मिला है.

17. लोथल एवं कालीबंगा से अग्निकुंड प्राप्त हुए हैं.

18. लोथल एवं देपालपुर से तांबे की मुद्रा प्राप्त हुई है.

19. लोथल से गोदी बाड़ा के अवशेष प्राप्त हुए हैं.

20. रंगपुर गुजरात की मादर नदी किस में स्थित है.

21. सिंधु प्रदेश में मंदिर होने का कोई अवशेष प्राप्त नहीं हुआ है.

22. सिंधु वासियों ने सर्वप्रथम कपास की खेती की थी.

23. सिंधु वासी पीपल के वृक्ष को सर्वाधिक पवित्र मानते थे.

24. सिंधु कालीन समाज मैं मूर्ति पूजा का प्रचलन था.

25. मोहनजोदड़ो को सिंध का नखलिस्तान के नाम से भी जाना जाता है.

26. सिंधु वासी पशुपति महादेव की पूजा करते थे.

27. सिंधुवासियों द्वारा टीन और तांबा को मिलाकर कांसा तैयार किया जाता था.

28. सिंधु वासियों को लिपि का ज्ञान नहीं था.

29. सिंधु समाज में मात्री देवी की उपासना की जाती थी.

30. सिंधु सभ्यता अथवा हड़प्पा सभ्यता के पतन के पश्चात सेंधव प्रदेश में आर्यों की वैदिक सभ्यता का विकास हुआ.

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर सहित 2019

31. वैदिक सभ्यता के निर्माता आर्य थे.

32. वैदिक सभ्यता वेद से संबंधित थी.

33. ऋग्वेद का रचनाकाल 1500 पूर्व से 1000 ईसवी पूर्व तक रहा है.

34. उत्तर वैदिक काल का रचनाकाल 1000 ईसवी पूर्व से लेकर 500 पूर्व तक रहा है.

35. ऋग्वेद आर्यों का सर्वाधिक पवित्र एवं प्राचीन ग्रंथ था.

36. ऋग्वेद में पार्थिव देवता वर्ग में अग्नि देवता का महत्वपूर्ण स्थान था.

37. अनेक कुटुंब के समूह को ग्राम कहा जाता था.

38. वैदिक काल में शासन व्यवस्था प्रमुखतया राजतंत्रात्मक थी.

39. वैदिक काल में बाल विवाह की प्रथा प्रचलित नहीं थी.

40. आर्यों का प्रिय पशु घोड़ा था.

41. आलू द्वारा धातु लोहा की खोज की गई जिसे श्याम यस कहा जाता था.

42. सत्यमेव जयते मुंडकोपनिषद् से लिया गया है.

43. विश्व का सबसे बड़ा महाकाव्य महाभारत है.

44. महाभारत का पुराना नाम जयसंहिता है.

45. बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा बुद्ध थे.

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर सहित 2019

46. महात्मा बुद्ध का जन्म लुंबिनी नामक ग्राम में 583 ईस्वी पूर्व हुआ था.

47. महात्मा बुद्ध ने 29 वर्ष की अवस्था में गृह त्याग दिया था.

48. महात्मा बुद्ध का बचपन का नाम राहुल साहब.

49. पीपल के वृक्ष को बोधि वृक्ष के नाम से जाना जाता है.

50. महात्मा बुद्ध को उरुवेला में पीपल के वृक्ष के नीचे ज्ञान की प्राप्ति हुई थी.

Samanya Gyan Hindi 2019 | सामान्य ज्ञान 2019

51. बुद्ध ने अपना पहला उपदेश वाराणसी के सारनाथ में दिया था.

52. बुद्ध का प्रथम उपदेश या बौद्ध परंपरा में धर्म चक्र प्रवर्तन के नाम से जाना जाता है.

53. बहुत मत की तीन प्रमुख अंग थे – बौद्ध, संघ एवं धम.

54. बौद्ध धर्म पुनर्जन्म में विश्वास करता था.

55. बुद्ध, आत्मा और ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास नहीं रखते थे.

56. हीनयान, महायान वज्रयान बौद्ध धर्म के संप्रदाय थे.

57. जातक कथाएं पाली भाषा में लिखी गई हैं.

58. बुद्ध चरित्र तथा सौंदरानंद संस्कृत भाषा में आशव घोष द्वारा लिखित महाकाव्य है.

59. बुद्ध की मृत्यु को बौद्ध ग्रंथों में महापरिनिर्वाण के नाम से जाना जाता था.

60. ऋषभदेव जैन धर्म के संस्थापक एवं प्रथम तीर्थकर थे.

61. जैन धर्म के अंतिम एवं चौबीसवें तीर्थंकर महावीर स्वामी थे.

62. जैन धर्म के 23वें तीर्थंकर पार्श्वनाथ थे.

63. पार्श्वनाथ के अनुयायियों को निर ग्रंथ कहा जाता था.

64. पार्श्वनाथ महावीर स्वामी से 250 वर्ष पूर्व हुए थे.

65. पार्श्वनाथ ने जैन धर्म में स्त्रियों को प्रवेश दिया था.

66. महावीर स्वामी के पिता सिद्धार्थ तांत्रिक कुल मुखिया थे.

सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर सहित 2019

67. जैन साहित्य को आगम कहा जाता है.

68. जैन धर्म पुनर्जन्म में विश्वास करता है.

69. जैन धर्म ईश्वर को सृष्टिकर्ता नहीं मानता है, बल्कि सृष्टि का निर्माण छह द्रव्य से मिलकर हुआ है.

70. घोषाल महावीर स्वामी के प्रथम सहयोगी बने.

71. जिन्होंने अपने धर्मोपदेश के लिए प्राकृतिक भाषा का प्रयोग किया.

72. ईसाई धर्म ईसा मसीह के द्वारा संस्थापित किया गया.

73. ईसा मसीह की माता का नाम मैरी था.

74. ईसाई धर्म का सबसे पवित्र चिन्ह क्रॉस है.

75. इस्लाम धर्म के संस्थापक हजरत मुहम्मद थे.

76. मगध पर शासन करने वाला प्राचीनतम ज्ञात राजवंश वृहद्रथ वंश था.

77. मगध के सबसे प्राचीन वंश के संस्थापक वृहद्रथ थे.

78. मगध की पहली राजधानी गिरिव्रज थी.

79. हर्यक वंश का संस्थापक बिंबिसार को माना जाता है.

80. बिंबिसार के बाद उसका पुत्र अजातशत्रु कुणिक मगध का शासक बना.

81. बौद्ध धर्म एवं जैन धर्म का अभ्युदय मगध राज्य में हुआ.

82. अजातशत्रु का अन्य नाम कुणिक था.

83. मगध पर शासन करने वाला नाग शासक हर्यक वंश का अंतिम शासक था.

84. कालाशोक ने पाटलिपुत्र को अपनी राजधानी बनाया.

85. चंद्रगुप्त मौर्य ने 322 ईस्वी पूर्व में मौर्य वंश की स्थापना की थी.

86. चंद्रगुप्त मौर्य ने कौटिल्य के सहयोग से घनानंद की हत्या कर मौर्य वंश की स्थापना की थी.

87. ब्राह्मण ग्रंथ चंद्रगुप्त मौर्य को शूद्र अथवा निम्न कुल बताते हैं.

88. बौद्ध तथा जैन ग्रंथ चंद्रगुप्त मौर्य को क्षत्रिय बताते हैं.

89. मेगस्थनीज की पुस्तक इंडिका मौर्य इतिहास का प्रमुख स्त्रोत है.

90. मुद्राराक्षस में चंद्रगुप्त मौर्य को कुल हीन कहा गया है.

91. चाणक्य का मूल नाम विष्णुगुप्त था.

92. चाणक्य ने राज्य शासन के ऊपर अर्थशास्त्र नामक ग्रंथ की रचना की थी.

93. जस्टिन ने चंद्रगुप्त मौर्य की सेना को डाकुओं का गिरोह कहा है.

94. सेल्यूकस ने अपनी पुत्री का विवाह चंद्रगुप्त मौर्य से किया था.

95. चंद्रगुप्त मौर्य की शासन प्रणाली राजतंत्रात्मक थी.

96. जूनागढ़ स्थित सुदर्शन झील का निर्माण चंद्रगुप्त मौर्य ने कराया था.

97. चंद्रगुप्त मौर्य ने अपने जीवन के अंतिम दिनों में जैन धर्म स्वीकार कर लिया था.

98. बिंदुसार ने लगभग 25 वर्षों तक शासन किया था.

99. अशोक बिंदुसार का पुत्र था.

100. बिंदुसार के शासन काल में अशोक अवंति का उप राजा था.

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimer:currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- currentshub@gmail.com

 

About the author

shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment