Gk/GS

सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर (Indus Valley Civilization)

सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर (Indus Valley Civilization)
सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर (Indus Valley Civilization)

सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर (Indus Valley Civilization)

सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर (Indus Valley Civilization)-Hello Students, आज हम आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर (Indus Valley Civilization) लेकर आए है.जो ज्यादा तर SSC, BANK, IAS, PCS, RLY, और बहुत सी एकदिवसीय परीक्षाओ मे पूछे गए है, वहाँ से मिलाकर कुल 10 महत्वपूर्ण प्रश्नो को यहाँ एक स्थान मे रखा गया है, जिसे आप अगर अपनी Notes मे लिख ले तो ज्यादा बेहतर रहेगा तो नीचे दिए गए 10 Most Questions सिंधु सभ्यता Harappa Society को ध्यान से याद करेऔर आगामी परीक्षा में उच्च अंक प्राप्त करने में सफलता प्राप्त कर सके।

सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित प्रश्न उत्तर (Indus Valley Civilization)

1.सिंध घाटी सम्यता के शहरों की गलियां थीं-
(A) चौड़़ी और सीधी
(b) तंग और मैली
(6) फिसलन बाली
(d) तंग और टेढ़ी

उत्तर-(A)
S.S.C, .C.L परीक्षा, 2012
सिध घाटी सभ्यता में शहरों की गलियां चौड़ी और सीधी होती थी। यहां की सड़कें पूर्व से पश्चिम एवं उत्तर से दक्षिण की ओर जाती हुई, एक-दूसरे को समकोण पर काटती थीं।


2. हड़प्पा और मोहनजोदड़ो के खंडहर निम्नांकित में से किस नदी के तट पर पाए जाते हैं?
(A) रावी
(c) व्यास
(b) झेलम
(d) सतलज
S.S.C. स्टेनोग्राफर (ग्रेड डी’) परीक्षा, 2010
हड़प्पा, रावी नदी के किनारे, जबकि मोहनजोदड़ो सिंधु नदी के किनारे पर अवस्थित है।


3. सिंधु धाटी सभ्यता की लिपि कौन-सी है ?
(a) तमिल
(b) खरोष्ठी
(c) अज्ञात
(d) ब्राह्मी
S.S.C.संयुक्त हायर सेकण्डरी (10+2) स्तरीय परीक्षा, 2013
उत्तर-(c)
सिंधु लिपि में लगभग 64 मूल चिन्ह, 250 से 400 तक अक्षर हैं, जो सेलखड़ी की आयताकार मुहरों, तांबे की गुटिकाओं आदि पर मिलते हैं। यह लिपि चित्रात्मक थी। यह लिपि अभी तक पढ़ी नहीं जा सकी है। मोहनजोदड़ो में सबसे बड़ा भवन कौन-सा है?


4.मोहनजोदड़ो में सबसे बड़ा भवन कौन सा है?
(a) विशाल स्नानागार
(b) धान्यागार
(c) सस्तंभ हॉल
(d) दो मंजिला मकान
S.S.C. F.C.I परीक्षा, 2012
उत्तर- (b)मोहनजोदड़ो का धान्यागार 45.71 मीटर लंबा तथा 15.23 मीटर चौड़ा था, जो कि वहां का सबसे बड़ा भवन था। मोहनजोदड़ो के विशाल स्नानागार की उत्तर से दक्षिण की ओर लंबाई 11.88 भीतर तथा पूर्व से पश्चिम की ओर चौड़ाई 7.01 मीटर थी।

 

READ THISभारतीय महापुरूषो के कथन और उनके नारे PDF Download

5.विशाल स्नानागार (ग्रेट बाथ) कहां मिला था ?

(a) हड़प्पा
(b) लोथल
(c) चन्हूदड़ो
(d) मोहनजोदड़ो

S.S.C.संयुक्त हायर सेकण्डरी (10+2) स्तरीय परीक्षा, 2015


6. सिंधु घाटी के लोगों की एक महत्त्वपूर्ण रचना निम्नतलिखित से किसकी मूर्ति थी?

(a) नटराज
(b) नृत्य करती हुई बालिका
(c) बुद्ध
(d) नरसिम्हा
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2006
उत्तर- (b)
सिंधु घाटी के लोगों की एक महत्त्वपूर्ण रचना नृत्य करती हुई बालिका की मूर्ति है, जो कांसे से निर्मित है। यह मूर्ति मोहनजोदड़ो से प्राप्त हुई है।


7.देवी माता की पूजा संबंधित थी-
(a) आर्य सभ्यता के साथ
(b) भूमध्य सागरीय सभ्यता के साथ
(c) सिंधु घाटी सभ्यता के साथ
(d) उत्तर वैदिक सभ्यता के साथ
S.S.C. F.C.I. परीक्षा, 2012
उत्तर-(c)
देवी माता या मातृ देवी की पूजा सिंधु घाटी सभ्यता का एक विशिष्ट लक्षण था। पुरातात्विक साक्ष्यों से प्राप्त मातृदेवी की मृण्मूर्तियों से इस बात का ज्ञान होता है।


8. सिंधु घाटी सभ्यता का पत्तन नगर ( बंदरगाह) कौन-सा 
(a) कालीबंगन
(b) लोथल
(d) मोहनजोदड़ो
S.S.C. स्टेनोग्राफर परीक्षा, 2011
(c) रोपड़
उत्तर-(b)

लोथल, अहमदाबाद (गुजरात) जिले में सरगवल (Sargavala) नामक ग्राम के समीप स्थित है। वर्ष 1955 तथा 1962 के मध्य यहां एस. आर. राव के निर्देशन में खुदाई की गई, जहां दो मील के घेरे में बसे हुए एक नगर के अवशेष प्राप्त हुए। यह छः खंडों में विभक्त था। यहां ऊंचे चबूतरे, रक्षा प्राचीर, सड़क तथा मकानों के अवशेष मिले हैं। यहां की सबसे महत्त्वपूर्ण उपलब्धि पकी ईंटों का बना हुआ विशाल आकार (214×36 मीटर) का एक घेरा है. जिसे राव महोदय ने ‘जहाजों की गोदी बताया है। इस प्रकार लोथल एक पत्तन नगर था। यह भोगवा नदी के किनारे स्थित था। लोथल में दो भिन्न-भिन्न टीले नहीं मिलते। पूरी की पूरी बस्ती एक ही दीवार से घिरी थी।


 9.लोथल नामक स्थान पर, निम्नोत्त सभ्यताओं में से किसका जहाजी मालघाट था?
(a) सिंधु घाटी
(c) मिस्र
(b) मेसोपोटामिया
(d) फारसी
S.S.C. Section Off. परीक्षा, 2006
उत्तर-(a)
लोथल नामक स्थान पर सिंधु घाटी सभ्यता का जहाजी मालघाट था।
10. सिंधु अर्थव्यवस्था की ताकत थी-
(a) कृषि
(b) व्यापार
(c) चाक पर बनाए गए मिट्टी के बर्तन
(d) बढ़ईगिरी
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10+2) स्तरीय परीक्षा, 2014
उत्तर-(a)

सिंधु सभ्यता के लोगों का आर्थिक आधार कृषि एवं पशुपालन था। सिंधु सभ्यता के लोगों ने ही सर्वप्रथम कपास उगाया था, इसके अलावा वे गेहूं, जौ, चावल का भी उत्पादन करते थे। ये गाय, बैल, भैंस, हाथी, ऊंट, भेड़, बकरी, सुअर, कुत्ता आदि पशु पालते थे, लेकिन इन्हें घोड़े का ज्ञान नहीं था, ये लोग व्यापार और शिल्प निर्माण उद्योग में भी प्रवीण थे।

 

READ THISहिटलर के उत्कर्ष के कारण-जर्मनी में हिटलर और उसके नात्सीदल के उत्कर्ष के कारण

 

READ THIS-भारत के वायसराय की सूची एवं उनके कार्य PDF Download in Hindi

हड़प्पा सभ्यता के महत्त्वपूर्ण स्थल-

स्थल खोजकर्त्ता अवस्थिति महत्त्वपूर्ण खोज
हड़प्पा दयाराम साहनी
(1921)
पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मोंटगोमरी जिले में रावी नदी के तट पर स्थित है।
  • मनुष्य के शरीर की बलुआ पत्थर की बनी मूर्तियाँ
  • अन्नागार
  • बैलगाड़ी
मोहनजोदड़ो
(मृतकों का टीला)
राखलदास बनर्जी
(1922)
पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के लरकाना जिले में सिंधु नदी के तट पर स्थित है।
  • विशाल स्नानागर
  • अन्नागार
  • कांस्य की नर्तकी की मूर्ति
  • पशुपति महादेव की मुहर
  • दाड़ी वाले मनुष्य की पत्थर की मूर्ति
  • बुने हुए कपडे
सुत्कान्गेडोर स्टीन (1929) पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिमी राज्य बलूचिस्तान में दाश्त नदी के किनारे पर स्थित है।
  • हड़प्पा और बेबीलोन के बीच व्यापार का केंद्र बिंदु था।
चन्हुदड़ो एन .जी. मजूमदार
(1931)
सिंधु नदी के तट पर सिंध प्रांत में।
  • मनके बनाने की दुकानें
  • बिल्ली का पीछा करते हुए कुत्ते के पदचिन्ह
आमरी एन .जी . मजूमदार (1935) सिंधु नदी के तट पर।
  • हिरन के साक्ष्य
कालीबंगन घोष
(1953)
राजस्थान में घग्गर नदी के किनारे।
  • अग्नि वेदिकाएँ
  • ऊंट की हड्डियाँ
  • लकड़ी का हल
लोथल आर. राव
(1953)
गुजरात में कैम्बे की कड़ी के नजदीक भोगवा नदी के किनारे पर स्थित।
  • मानव निर्मित बंदरगाह
  • गोदीवाडा
  • चावल की भूसी
  • अग्नि वेदिकाएं
  • शतरंज का खेल
सुरकोतदा जे.पी. जोशी
(1964)
गुजरात।
  • घोड़े की हड्डियाँ
  • मनके
बनावली आर.एस. विष्ट
(1974)
हरियाणा के हिसार जिले में स्थित।
  • मनके
  • जौ
  • हड़प्पा पूर्व और हड़प्पा संस्कृतियों के साक्ष्य
धौलावीरा आर.एस.विष्ट
(1985)
गुजरात में कच्छ के रण में स्थित।
  • जल निकासी प्रबंधन
  • जल कुंड

Download

प्रमुख जनजातीय विद्रोह

द्वितीय विश्व युद्ध क्यों हुआ था, इसके कारण व परिणामप्र

थम विश्व युद्ध के कारण,परिणाम,युद्ध का प्रभाव,प्रथम विश्व युद्ध और भारत

पुनर्जागरण का अर्थ और पुनर्जागरण के कारण

1917 की रूसी क्रांति

अमेरिकी क्रांति के कारण

पुनर्जागरण काल प्रश्नोत्तरी

दोस्तों Currentshub.com के माध्यम से आप सभी प्रतियोगी छात्र नित्य दिन Current Affairs Magazine, GK/GS Study Material और नए Sarkari Naukri की Syllabus की जानकारी आप इस Website से प्राप्त कर सकते है. आप सभी छात्रों से हमारी गुजारिश है की आप Daily Visit करे ताकि आप अपने आगामी Sarkari Exam की तैयारी और सरल तरीके से कर सके.

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimer: currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- [email protected]

About the author

shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment