IAS study Material

Akshansh aur Deshantar Rekha in Hindi-अक्षांश एवं देशांतर रेखाएं

akshansh aur deshantar rekha-अक्षांश एवं देशांतर रेखाएं (Akshansh aur Deshantar)

akshansh aur deshantar rekha-अक्षांश एवं देशांतर रेखाएं (Akshansh aur Deshantar) – Hello Friends, Welcome to currentshub, दोस्तों जैसा की आप लोग जानते ही है की हम आपको प्रतिदिन कुछ नई study मटेरियल provides करते है |आज हम आपके लिए akshansh aur deshantar rekha-अक्षांश एवं देशांतर रेखाएं (Akshansh aur Deshantar) की PDF लेकर आये है. इस pdf notes से आप UPSC , IAS , PCS , SSC , Railway और अन्य competitive exams की तैयारी कर सकते है. नीचे हमने India and World Geography Book Pdf की डाउनलोड लिंक दी है जिस पर क्लिक करके आप इस Pdf को अपने कॉम्प्यूटर अथवा मोबाइल में सेव कर सकते है.

Akshansh aur Deshantar Rekha in Hindi-अक्षांश एवं देशांतर रेखाएं

Akshansh aur Deshantar Rekha in Hindi-अक्षांश एवं देशांतर रेखाएं

जैसा कि आप सभी जानते है. कि, UPSC की परीक्षा पास करने के लिए हर subjects की basic knowledge बहुत जरुरी होती है. जिसे पढ़नेे में आपको कम समय लगेगा और आप upsc exams की तैयारी के लिए अपने basic को मजबूत बना सकते है. इससे पहले के पोस्ट में हमने आपसे Planet Knowledge Publication All Important Book Downloadऔर Lakes,rivers, mountains,passes, of india in hindi PDF Download शेेेयर की थी और आज akshansh aur deshantar rekha Notes शेेेयर कर रहे है.

इसी भे पढ़ें…

अक्षांश एवं देशांतर रेखाएं (Akshansh aur Deshantar)

(Latitude and Longitude in Hindi), Akshansh Deshantar Latitude Longitude

भूगोल में किसी स्थान की स्थिति बताने के लिए अक्षांश एवं देशांतर रेखाओं का उपयोग किया जाता है। अक्षांश और देशांतर काल्पनिक रेखाएं हैं जिससे पृथ्वी पर किसी जगह की स्थिति का पता लगाया जा सकता है। पृथ्वी का आकार Geoid रूप में है। उदाहरणस्वरूप नई दिल्ली की स्थिति 28° N एवं 77° E है।

Akshansh Deshantar Latitude Longitude

अक्षांश और देशांतर रेखाओं के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करने से पहले हमें भूमध्य रेखा या विषुवतीय वृत्त रेखा के बारे में जानना बहुत जरूरी है।

भूमध्य रेखा या विषुवतीय वृत्त रेखा (Equtor)

भूमध्य रेखा पृथ्वी की सतह पर उत्तरी ध्रुव एवं दक्षिणी ध्रुव से समान दूरी पर स्थित एक काल्पनिक रेखा है जो पृथ्वी को उत्तरी और दक्षिणी गोलार्ध में विभाजित करती है।

अगर दूसरे शब्दों में कहें तो पृथ्वी के केंद्र से सर्वाधिक दूरस्थ भूमध्यरेखीय उभार पर स्थित बिन्दुओं को मिलाते हुए ग्लोब पर पश्चिम से पूर्व की ओर खींची गई कल्पनिक रेखा को भूमध्य रेखा या विषुवतीय वृत्त रेखा कहते हैं। इस रेखा पर वर्ष भर दिन-रात बराबर होतें हैं, इसलिए इसे विषुवत रेखा भी कहते हैं।

इस प्रकार  हम देखते हैं कि भूमध्य रेखा एक ऐसी काल्पनिक रेखा है जो पूरे पृथ्वी को क्षैतिज रूप से दो बराबर भागों में बाँट देती है।

अक्षांश रेखाएं (Latitude)

  • विषुवत रेखा के समानांतर ग्लोब पर पूर्व से पश्चिम की तरफ खीची गयी काल्पनिक रेखा को अक्षांस रेखा कहते है।
  • किसी स्थान का अक्षांश (Latitude), धरातल पर उस स्थान की ‘उत्तर-दक्षिण स्थिति’ को प्रदर्शित करता है।
  • उत्तरी और दक्षिणी ध्रुवों का अक्षांश क्रमशः 90 डिग्री उत्तर तथा 90 डिग्री दक्षिण होता है।
  • अगर विषुवत रेखा से उत्तर की ओर एक एक डिग्री पर अक्षांश रेखा खिंची जाय तो हमें 90 अक्षांश रेखा प्राप्त होंगी, इनको उत्तरी अक्षांश रेखा कहते हैं।
  • इसी प्रकार विषवत रेखा के दक्षिण में एक एक डिग्री पर अक्षांश रेखा खींचने पर हमें 90 अक्षांश रेखा प्राप्त होंगी जिन्हें दक्षिणी अक्षांश रेखा कहते हैं।
  • इस प्रकार कुल आक्षांश रेखा की संख्या 180 होती है लेकिन विषुवत वृत्त/रेखा या भूमध्य रेखा भी एक अक्षांश रेखा ही है तो इस प्रकार कुल अक्षांश रेखाओं की संख्या 181 हो जाती है। Akshansh Deshantar Latitude Longitude
  • सभी अक्षांश रेखाएं एक दुसरे के समानांतर होती हैं तथा इनको अंश (°) में प्रदर्शित किया जाता है।
  • दो अक्षांशों के मध्य की दूरी 111 किमी। होती है।
  • विषुवत वृत्त/रेखा 0 डिग्री अक्षांश को प्रदर्शित करता है।
  • विषुवत वृत्त/रेखा के उत्तर के सभी अक्षांश उत्तरी अक्षांश, तथा दक्षिण के सभी अक्षांश दक्षिणी अक्षांश कहलाते हैं।
  • पृथ्वी पर खींचे गए अक्षांश वृत्तों में विषुवत वृत्त/रेखा सबसे बड़ा है। इसकी लम्बाई 40069 किमी। है।
  • कर्क वृत्त/रेखा या कर्क रेखा (अक्षांश रेखा) धरातल पर उत्तरी गोलार्द्ध में विषुवत वृत्त/रेखा से 23½°की कोणीय दूरी पर खींचा गया काल्पनिक वृत्त/रेखा है।
  • मकर वृत्त/रेखा या मकर रेखा धरातल पर दक्षिणी गोलार्द्ध में विषुवत रेखा से 23½° की कोणीय दूरी पर खींचा गया काल्पनिक वृत्त/रेखा है।
  • आर्कटिक वृत्त/रेखा धरातल पर उत्तरी गोलार्द्ध में विषुवत रेखा से 66½° की कोणीय दूरी पर खींचा गया काल्पनिक वृत्त/रेखा है।
  • अंटार्कटिक वृत्त/रेखा धरातल पर दक्षिणी गोलार्द्ध में विषुवत वृत्त/रेखा से 66½° की कोणीय दूरी पर खींचा गया काल्पनिक वृत्त/रेखा है।

अक्षांश के अन्य महत्वपूर्ण भाग

  • विषुवत वृत्त या इक्वेटर (0°)
  • उत्तरी ध्रुव (90° N)
  • दक्षिणी ध्रुव (90° S)
  • कर्क रेखा (Tropic of Cancer) – यह उत्तरी गोलार्ध में 23½° N में स्थित है।
  • मकर रेखा (Tropic of Capricorn) – यह दक्षिणी गोलार्द्ध 23½° S में स्थित है।
  • आर्कटिक वृत्त/रेखा/गोला – यह विषुवत वृत्त के उत्तर में  66½° N अक्षांश पर स्थित है।
  • अंटार्कटिक वृत्त/रेखा/गोला – यह विषुवत वृत्त के दक्षिणी भाग में 66½° S अक्षांश पर स्थित है।

पृथ्वी के अक्षांशीय ऊष्मा जोन (Earth’s Latitudinal Heat Zones in Hindi)

उष्ण कटिबंध (Tropics zone in Hindi)

कर्क तथा मकर वृत्त/रेखा के बीच सभी अक्षांशों पर मध्याह्न का सूर्य दिन में कम से कम एक बार ठीक सिर के ऊपर होता है। अतः इस क्षेत्र में सबसे अधिक गर्मी रहती है, इसलिए इस क्षेत्र को ‘उष्ण कटिबंध’ कहते हैं। पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा सूर्य की रौशनी पृथ्वी के इसी भाग को मिलती है

Akshansh Deshantar Latitude Longitude

शीतोष्ण कटिबंध (Temperate zone in Hindi)

कर्क वृत्त/रेखा के उत्तर में तथा मकर वृत्त/रेखा के दक्षिण में मध्याह्न का सूर्य कभी भी ठीक सिर के ऊपर नहीं चमकता। सूर्य की किरणों का कोण ध्रुवों की ओर घटता जाता है जिसके फलस्वरूप उत्तरी गोलार्द्ध में कर्क वृत्त/रेखा तथा आर्कटिक वृत्त/रेखा के बीच एवं दक्षिणी गोलार्द्ध में मकर वृत्त/रेखा तथा अंटार्कटिक वृत्त/रेखा के बीच साधारण तापमान रहता है। अतः यहाँ न तो अधिक सर्दी पड़ती है और न ही अधिक गर्मी । इसी कारण इसे शीतोष्ण कटिबंधकहते हैं ।

शीत कटिबंध (Cold zone in Hindi)

उत्तरी गोलार्द्ध में आर्कटिक वृत्त/रेखा तथा उत्तरी ध्रुव के बीच एवं दक्षिणी गोलार्द्ध में अंटार्कटिक वृत्त/रेखा और दक्षिणी ध्रुव के बीच के क्षेत्रों में काफी ठण्ड पड़ती है। इसका कारण यह है कि यहां सूर्य क्षितिज के ऊपर नहीं जाता। सूर्य की किरणें यहाँ काफी तिरछी पड़ती है। इसी कारण इन्हें’ शीत कटिबंध कहते हैं।

किसी स्थान के अक्षांश का मान कैसे निकालते हैं?

किसी स्थान के अक्षांश का मान निकालने के लिए उस स्थान को धरती के केंद्र से मिलाने वाली रेखा तथा उसके देशांतर की रेखा विषुवत वृत्त/रेखा को जहां मिलती है, उस बिंदु से धरती के केंद्र से मिलाने  वाली रेखा के बीच बने कोण को 90 डिग्री में से घटाने से प्राप्त होता है।

मतलब,

किसी स्थान के अक्षांश का मान = 90 – (उस स्थान को धरती के केन्द्र से मिलाने वाली रेखा तथा उसके रेखांश की रेखा विषुवत वृत्त/रेखा को जहा मिलती है उस बिंदु से धरती के केन्द्र से मिलाने वाली रेखा के बीच बना कोण)

देशांतर रेखाएं (Longitude Lines)

  • अक्षांश रेखा के लंबवत उत्तरी ध्रुव तथा दक्षिणी ध्रुव को मिलाने वाली अर्धवृत्ताकार रेखाओं को देशांतर रेखा कहते हैं।
  • देशांतर रेखायें भी काल्पनिक रेखाएं हैं जो उत्तर से दक्षिण की ओर खींची जाती हैं।
  • चूँकि एक बिंदु पर 360 डिग्री का कोण होता है तो इस प्रकार अगर एक-एक डिग्री पर रेखाएं खींची जाए तो हमें 360 देशांतर रेखायें प्राप्त होती हैं। तो इस प्रकार कुल देशांतर रेखाओं की संख्या 360 है।
  • देशांतर रेखाएं उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव पर मिलती हैं, अत: ये अक्षांश रेखाओं की तरह एक दुसरे के समानांतर नहीं होती।
  • भूमध्य रेखा से ध्रुवों की ओर जाने पर देशांतर रेखाओं के बीच की दूरी घटती जाती है।
  • दो देशांतर रेखाओं के बीच अधिकतम दूरी भूमध्य रेखा के पास 111.32 किलोमीटर होती है।
  • लंदन के एक शहर ग्रीनविच से गुजरती हुई एक देशांतर रेखा को 0 डिग्री देशांतर रेखा माना गया है जिसे “प्रधान मध्यान्ह देशांतर रेखा” (Prime Meridian) भी कहते हैं।
  • ग्रीनविच रेखा ग्रीनविच नामक शहर से गुजरती है, इसी कारण इस रेखा को ग्रीनविच रेखा भी कहा जाता है।
  • दुनिया का मानक समय ग्रीनविच रेखा से ही ज्ञात किया जाता है।
  • ग्रीनविच रेखा पृथ्वी को लंवबत दो भागों में बांटती है, पूर्वी भाग तथा पश्चिमी भाग।
  • ग्रीनविच रेखा से पूर्व दिशा में स्थित 180 देशांतर रेखाओं को पूर्वी देशांतर रेखा कहते हैं तथा ग्रीनविच रेखा से पश्चिम की ओर 180 देशांतर रेखाओं को पश्चिमी देशांतर रेखाएं कहते हैं ।

देशांतर और समय (Longitude & Time in Hindi)

  • पृथ्वी अपनी धुरी पर 24 घंटो में एक चक्कर लगाती है अर्थात पृथ्वी 24 घंटो में 360° घूम जाती है तो पृथ्वी को 1° घूमने में 4 मिनट का समय लगता है अर्थात पृथ्वी को 1° देशांतर तय करने में 4 मिनट का समय लगता है।
  • पृथ्वी अपने काल्पनिक अक्ष पर पश्चिम से पूर्व की ओर घूमती है अतः ग्रीनविच से पूर्व के स्थानों का समय ग्रीनविच समय से आगे तथा पश्चिम के स्थानों का समय पीछे होता है।
  • उदाहरण के लिए जब ग्रीनविच पर दोपहर के 12 बजते हैं, उस समय ग्रीनविच के पूर्व में 15° देशान्तर पर 15 × 4 = 60 मिनट यानी 1 घंटा समय आगे रहेगा किंतु ग्रीनविच के पश्चिम में 15° देशान्तर पर समय ग्रीनविच समय से एक घंटा पीछे रहेगा।

मानक समय एवं समय जोन (Time Zone in Hindi)

हर देश के लिए मानक समय और समय जोन बनाए गए हैं. अगर हर शहर अपने मध्याह्न के हिसाब से समय को मान कर रखने लगे तो उस शहर और दूसरे शहर के स्थानीय समय में काफी अंतर आ जायगा। किसी देश में एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाते समय लोगों को हमेशा अपने घड़ी का समय बदलते रहना होगा, जोकि असुविधाजनक है। इस प्रकार की परेशानियों से बचने के लिए सभी देशों द्वारा एक मानक समय का पालन किया जाता है।

Akshansh Deshantar Latitude Longitude

ज्यादातर देश अपने यहाँ के मानक मध्याह्न के हिसाब से समय निश्चित करते हैं।

  • किसी स्थान पर जब सूर्य आकाश में सबसे अधिक ऊँचाई पर होता है, उस समय दिन के 12 बजे होते हैं। इस समय को वहां का स्थानीय समय कहते हैं। एक देशान्तर रेखा पर स्थित सभी स्थानों का स्थानीय समय एक ही होता है।
  • प्रत्येक देश की एक केन्द्रीय देशांतर रेखा (मानक मध्याह्न रेखा) के स्थानीय समय को ही संपूर्ण देश का मानक समय माना जाता है।
  • भारत में 82.5° पूर्वी देशान्तर रेखा को यहां की मानक मध्याह्न रेखा माना जाता है। इस देशान्तर रेखा के स्थानीय समय को सारे देश का मानक समय माना जाता है।
  • 82.5° पूर्वी देशांतर रेखा भारत में इलाहबाद के नैनी से होकर गुजरती है।
  • कुछ बड़े देश जिनका क्षेत्रफल बड़ा है, जिनका देशान्तरीय विस्तार अधिक है, जैसे कि USA, कनाडा, रूस, चीन आदि यहाँ एक मानक समय जोन होना मुश्किल है, इसलिए वहां सुविधा के लिए एक से अधिक मानक समय मान लिए गए हैं। जैसे- रूस में 11 मानक समय हैं। USA एवं कनाडा में पांच समय जोन हैं – अटलांटिक, पूर्वी, मध्य, पहाड़ी एवं पैसिफिक समय जोन। अटलांटिक एवं पैसिफिक समय जोन के बीच का अंतर पांच घंटा है
  • भारत का मानक समय ग्रीनविच मीन टाइम (GMT) से 5 घण्टे 30 मिनट आगे है।

नोट: किसी भी देश या स्थान के मौसम के लिए अक्षांश और वहाँ के स्थानीय समय के लिए देशांतर रेखाएं जिम्मेदार होती हैं। देशांतर रेखाओं का सबसे महत्वपूर्ण काम यह है कि ये GMT या ग्रीनविच मीन टाइम के आधार पर किसी भी क्षेत्र का समय निकालने के काम आती हैं। GMT को World Time भी कहा गया है।

Akshansh Deshantar Latitude Longitude

अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा (International Date Line in Hindi)

अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा प्रशांत महासागर पे स्थित 180° देशांतर रेखा है, यह रेखा अल्यूशियन द्वीप समूह, फिजी, सामोआ और गिल्बर्ट आइलैंड्स में अपने सीधे मार्ग से विचलित हो जाती है। यह एक टेढ़ी/ वक्र (zig-zag) ज़िग-ज़ैग रेखा है। इस रेखा का निर्धारण 1884 में वाशिंगटन में संपन्न एक सम्मेलन में किया गया था।

जब कोई जलयान पश्चिम दिशा में यात्रा करता है, तो उसकी तिथि में एक दिन जोड़ दिया जाता हैं और यदि वह पूर्व की ओर यात्रा करता हैं तो एक दिन घटा दिया जाता हैं।

अर्थात पश्चिम की ओर तिथि रेखा को पार करने वाले यात्री (अर्थात जापान से यूएसए की ओर जाने वाले यात्री) एक दिन दोहराते हैं, अर्थात एक दिन का फायदा होता है और इसे पूर्व की ओर (अर्थात संयुक्त राज्य अमेरिका से जापान तक) पार करने वाले वाले यात्री एक दिन खो देता है।

1.प्रश्न: अक्षांश रेखा क्या है?

2.प्रश्न : दो अक्षांशों के बीच की दूरी कितनी होती है?

3.प्रश्न : भूमध्य रेखा से उत्तर की ओर ‍23½ डिग्री पर कौन सी अक्षांश रेखा होती है ?

4. प्रश्न :भूमध्य रेखा से दक्षिण की ओर ‍23½ डिग्री पर कौन सी अक्षांश रेखा होती है ?

5. प्रश्न : कर्क रेखा किस देश से होकर नहीं गुजरती है?

6. प्रश्न : दो देशांतर रेखाओं की बीच की दूरी किस स्थान पर सबसे अधिक होती है? और कितनी होती है?

7. प्रश्न : प्रधान मध्यान रेखा किस जगह से होकर गुजरती है?

8. प्रश्न : ट्रॉपिक ऑफ़ कैंसर क्या है?

9. प्रश्न : अगर हम उत्तरी ध्रुव और दक्षिणी ध्रुव को बिंदु माने तो अक्षांश रेखाओं की संख्या कितनी होगी?

10. प्रश्न : पृथ्वी 1 घंटे में कितनी देशांतर घूम लेती है?

11. प्रश्न : 0° डिग्री देशांतर रेखा और किन अन्य नामों से जाना जाता है?

उत्तर : प्रधान याम्योत्तर, प्रधान मध्याह्न रेखा और ग्रीनविच रेखा के नाम से जाना जाता है।

12. प्रश्न : 22 दिसंबर को दक्षिणी गोलार्ध में बड़ा दिन क्यों होता है?

13. प्रश्न : 21 जून को उत्तरी गोलार्ध में बड़ा दिन क्यों होता है?

14. प्रश्न : दक्षिणी ध्रुव का अक्षांश कितना होता है?

15. प्रश्न :ध्रुवों की तरफ बढ़ने पर अक्षांश रेखा बढ़ती है या घटती है?

16. प्रश्न: उत्तरी ध्रुव और दक्षिणी ध्रुव को आपस में कौन सी रेखा मिलाती है?

17.प्रश्न : उस काल्पनिक रेखा का नाम क्या है जो पृथ्वी को दो भागों में बांटती है?

18.प्रश्न : सर्वाधिक किस रेखा पर अधिक तापमान ज्ञात किए जाते हैं?

19. प्रश्न : किस अक्षांश रेखा पर दिन और रात समान बनी रहती है?

दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल है या ebook की आपको आवश्यकता है तो आप निचे comment कर सकते है. आपको किसी परीक्षा की जानकारी चाहिए या किसी भी प्रकार का हेल्प चाहिए तो आप comment कर सकते है. हमारा post अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ share करे और उनकी सहायता करे.

You May Also Like This

अगर आप इसको शेयर करना चाहते हैं |आप इसे Facebook, WhatsApp पर शेयर कर सकते हैं | दोस्तों आपको हम 100 % सिलेक्शन की जानकारी प्रतिदिन देते रहेंगे | और नौकरी से जुड़ी विभिन्न परीक्षाओं की नोट्स प्रोवाइड कराते रहेंगे |

Disclaimer:currentshub.com केवल शिक्षा के उद्देश्य और शिक्षा क्षेत्र के लिए बनाई गयी है ,तथा इस पर Books/Notes/PDF/and All Material का मालिक नही है, न ही बनाया न ही स्कैन किया है |हम सिर्फ Internet पर पहले से उपलब्ध Link और Material provide करते है| यदि किसी भी तरह यह कानून का उल्लंघन करता है या कोई समस्या है तो Please हमे Mail करे- [email protected]

About the author

shubham yadav

आपकी तरह मै भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करता हूँ। इस वेबसाइट के माध्यम से हम एसएससी , आईएएस , रेलवे , यूपीएससी इत्यादि परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों की मदद कर रहे हैं और उनको फ्री अध्ययन सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं | इस वेब साईट में हम इन्टरनेट पर ही उपलब्ध शिक्षा सामग्री को रोचक रूप में प्रकट करने की कोशिश कर रहे हैं | हमारा लक्ष्य उन छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं की सभी किताबें उपलब्ध कराना है जो पैसे ना होने की वजह से इन पुस्तकों को खरीद नहीं पाते हैं और इस वजह से वे परीक्षा में असफल हो जाते हैं और अपने सपनों को पूरे नही कर पाते है, हम चाहते है कि वे सभी छात्र हमारे माध्यम से अपने सपनों को पूरा कर सकें। धन्यवाद..
Credits-Pradeep Patel CEO of www.sarkaribook.com

Leave a Comment